Sri Krishna Prabhu

Sri Krishna Prabhu-राधा और कृष्ण का प्रेम जो कभी देखा ही नहीं गया! Leave a comment

Sri Krishna Prabhu

श्री कृष्ण भगवत गीता के महत्वपूर्ण नायक के रूप में रहे। Sri Krishna Prabhu को हिंदुओं द्वारा व्यापक रूप से अवतार माना जाता है।


कुरुक्षेत्र की लड़ाई के दौरान, कृष्णा ने अर्जुन को भगवत गीता के अमर आध्यात्मिक ज्ञान दिया. कृष्ण ने ज्ञान, भक्ति का मार्ग सिखाया।

श्रीकृष्ण ने राधा और वृंदावन में गोपी के साथ अपने समय के माध्यम से भक्ति भक्ति योग को एक उच्च स्तर पर शिरोमणी किया।


दिखाया क्या होता है, असली प्रेम आत्मा का परमात्मा से प्रेम।

Who is Krishna?

श्री कृष्णा जो मथुरा में पैदा हुए थे। जिनको जन्म लेते ही पिताजी के द्वारा योगमाया के सहारे गोकुल में भेजा गया।

श्री कृष्णा योगियों के योग हैं, प्रेमियों के प्रेम हैं, ज्ञानियों का ज्ञान है। सब कुछ श्री कृष्णा ही है।

Sri Krishna Prabhu

Krishna Kon hain?

Sri Krishna Prabhu परमपुरुष परमेश्वर भगवान् जो हर समय नित्य वृन्दावन धाम में मनुष्य लीला करते रहते हैं।

श्री कृष्णा को कभी भी भौतिक बुद्धि या विषयों के माध्यम से समझा नहीं जा सकता है, क्योंकि वह तो सामन्य बुद्धि के परे हैं,

वो तो “अवांगमनसगोचर” हैं. असलियत में श्री कृष्णा हैं कौन? ये कौन जानता है, कोई नहीं। हम सभी भौतिक श्री कृष्णा को ही जानते हैं।

What did Shri Krishna mean in Mahabharata of “Bhakti”?

श्री कृष्णा ने गीता में बताया है, “भक्त्या मम अभिजनती” अर्थात वह जो शुद्ध नित्य भक्त है, वही मुझे जान सकता है।

जिसका चित्त शुद्ध हो चूका है, जो जीवन के हर क्षण में न तो हर्ष का ही अनुभव करता है, न ही दुःख का जो अपनी आत्मा में नित्य तृप्त है।

वही Sri Krishna Prabhu को जानने योग्य है और वही जनता है। (Sri Krishna Prabhu)

Was the surname of Lord Krishna “Yadav”?

उपनाम का रहस्य या भिन्नताएं तो हमारी पाश्चात्य सभ्यता ने हमें सिखाई है। श्री कृष्णा भौतिक दृष्टि से यदु वंश में उत्पन हुए थे इसिलए श्री कृष्णा यादव थे।

Sri Krishna Prabhu

Shri krishn ka up naam kya hai?

श्री कृष्णा के तो हजारों नाम हैं, परन्तु हाँ सभ्यता और संस्कृति को देखते हुए वंश का नाम उसका उप नाम होता है।


इसीलिए श्री कृष्णा भी यादव थे। श्री कृष्णा को यादव कहना उचित ही होगा यादव कुल ही में उनका जनम हुआ था।

इसमें कोई दो राय नहीं हो सकती।

Someone please share ramanand sagar shri krishna ending songs lyrics

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासूदेवा

Shri krishna govind hare murari lyrics

Creadit source: BHAKTIentertainmen

Is lord krishna yadav or Kshatriya?

श्री कृष्णा परमपुरुष भगवान् सोलहों कलाओं के साथ इस मृत्य लोक में अवतरित हुए और मनुष्य लीला की। (Sri Krishna Prabhu)

उन्होंने संसार में सांसर की भाँति ही निष्काम भावना से कर्म किया।

Sri Krishna Prabhu जब मनुष्य बन कर अवतरित हुए तो उन्हें यादव कहने में कोई दुविधा नहीं हो सकती।

Which type of yogi shri krishna was?

श्री कृष्णा वृक्ष के जड़ हैं। जिसके पत्ते फल फूल ये मनुष्य जीव समुदाय है। श्री कृष्णा तो योगियों के योग हैं।

कृष्णा में तो संपूर्ण ब्रह्माण्ड समय हुआ है।

आप सभी जानते ही हैं, माँ यशोदा को पूरी सृष्टि के दर्शन अपने मुख के माध्यम से करा दिए थे।

श्री कृष्णा प्रेमियों के प्रेम भी हैं। तभी तो ऋषियों ने अपना तप छोड़ गोपियों के रूप में जन्म लिया।

इसिलए श्री कृष्णा को योगियों में भिन्नता देना असंभव है क्योकि वो सब कुछ ही हैं। (Sri Krishna Prabhu)

Sri Krishna Prabhu

Shri Krishna suktam path kya hai?

सूक्तम का सामान्य अर्थ होता है, “पाठ”। किसी भी देवी देवता का पाठ ही सूक्तम है।

श्री कृष्णा सूक्तम, श्री कृष्ण “मधुराष्टकम” है।

जिसमे Sri Krishna Prabhu के मधुर बाल लीला का वर्णन किया गया है।

अधरं मधुरं वदनं मधुरं नयनं मधुरं हसितं मधुरम् ।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥१॥

वचनं मधुरं चरितं मधुरं वसनं मधुरं वलितं मधुरम् ।
चलितं मधुरं भ्रमितं मधुरं मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥२॥

वेणुर्मधुरो रेणुर्मधुरः पाणिर्मधुरः पादौ मधुरौ ।
नृत्यं मधुरं सख्यं मधुरं मधुराधिपतेरखिलं मधुरम् ॥३॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *