Sindur | Hanuman ji ko sindoor kyo chadhaya jata hai Leave a comment

सिंदूर-Sindur

नमस्कार दोस्तों आज मैं आपके समक्ष कुछ ऐसी जानकारी लेकर आया हूं जिसको जानने से आपको हिंदू होने पर गर्व महसूस होगा । और साथ ही साथ आप अपनी हिंदुत्व को जान पाएंगे । आप सभी इस बात से अवगत नहीं होंगे की हिंदू धर्म में केसरिया रंग ही क्यों प्रयोग किया जाता है ।हमारे देश के झंडे पर भी केसरिया रंग ही विद्यमान है ।और वैराग्य अथवा साधु संत हर कोई रंग इसे इतना पसंद क्यों करता है। इसका सीधा सा कारण हम देखें तो हमें यह मालूम होता है कि सर्वप्रथम Sindur अर्थात लाल रंग प्रयोग किया जाता था मूर्तियों को अगर आप देखेंगे तो लाल रंग में ही आपको सभी मूर्तियां कलर में दिखेंगे ।


sindur

Sindur नारंगी/केसरिया रंग का चमकीला चूर्ण होता है जिसे हिन्दू धर्म में शादीशुदा महिलाये अपनी मांग में भर्ती है ।ऐसी धारणा है की ऐसे करने से पति की आयु लम्बी होती है । घर में सुख शांति बनी रहती है। हिन्दू देवि और देवताओं की पूजा सिंदूर इस्तेमाल के बिना अधूरी है। इसके अलावा चमेली के तेल के साथ Sindur हनुमानजी को चढ़ाया जाता है। हनुमानजी को पांच मंगलवार और पांच शनिवार को चमेली का तेल और सिंदूर अर्पित करके गुड़ और चने की प्रसाद बांटें। सभी कष्टों से आपको मुक्ति मिल जायगी ।


Sindur Ke Totke

Sindur  सिर्फ सुहाग की निशानी ही नहीं है बल्कि इसमें कुछ ऐसी तांत्रिक शक्तिया भी है जिससे आप कई तरह के लाभ प्राप्त कर सकते है |


  • अगर आपके घर में किसी को रक्त से जुडी किसी प्रकार की समस्या है तो आप सिंदूर को उस व्यक्ति के ऊपर घुमए और उसे बहते हुए जल में प्रवाहित कर दे । ऐसा आप पांच दिन तक लगातार करे ।
  • यदि आप समाज में मान सम्मान पाना चाहते है तो इस के लिए एक बहुत ही सरल सा उपाय /टोटका है एक पान के पत्ते में फिटकरी और Sindur मिला कर उसे किसी पीपल के पेड़ के निचे किसी बड़े से पत्थर से दबा दे । याद रखे पीछे मुड़कर ना देखे । ये आपको लगातार तीन बुधवार तक करे ।
  • यदि आप आए दिन धन की तंगी से परेशान रहते हैं तो एकाक्षी नारियल पर सिंदूर लगाकर उसे लाल वस्त्र में बांधकर उसकी पूजा करें और फिर उसे मां लक्ष्मी से धन की प्रार्थना करते हुए अपने व्यवसाय स्थल सुरक्षित जगह पर रख दें। इसके प्रभाव से धन की समस्या दूर होने लगेगी।
  • गुरु पुष्य योग या शुक्ल पक्ष के पुष्य योग किसी भी दिन गणेश जी को सिंदूर दान करने से आत्मविश्वास में वृद्धि होती है । और आप अपनी किसी भी परीक्षा को आसानी से पास कर सकते है ।
  • जिन लोगो को अपनी नौकरी में दिक्तते आ रही है वो किसी भी शुक्ल पक्ष के दिन सिंदूर लेकर अपनी अनामिका ऊगली से ६३ लिख दे और उसे बहते जल में प्रवाहित करे । ऐसा लगातार तीन बार करे । आपकी नौकरी की समस्या दूर हो जायगी ।

Hanuman Kavach Yantra

Hanuman ji ko sindoor kyo chadhaya jata hai

हिन्दू धर्म में आपने देखा होगा की जब भी हनुमान जी की पूजा -अर्चना की जाती है । तो उनको सिंदूर चढ़ाया जाता है या आप बोल सकते है की हनुमान जी की प्रिय वस्तुए उन्हें अर्पण की जाती है । Sindur भी उन्हें बहुत प्रिय है क्या आप जानते है की हनुमान जी को सिंदूर इतना परया क्यों है इसके पीछे एक बहुत की रोचक कहानी है ।

एक बार जब माता सीता अपनी मांग में सिंदूर लगा रही थी तो उसी समय वह पर हनुमान जी आये और पूछा माता आप ये क्यों लगा रही हो । इस पर माता सीता बोली पुत्र इससे मेरे स्वामी (राम ) की आयु लम्बी होगी । यह सुनकर हनुमान जी बहुत प्रसन्न हुए ।और सोचा यदि ये चुटकी भर सिंदूर लगाने से यदि प्रभु की आयु लम्बी हो सकती है तो क्यों न मै भी से आपने पुरे शरीर पर लगा लू । इससे प्रभु तो अमर हो जायगी । और उन्होंने अपने पुरे शरीर पर सिंदूर लगा लिया । तभी से हनुमान जी को Sindur चढ़ाया जाने लगा ।

Hanuman ji ko sindoor lagane ki vidhi

हनुमान चालीसा में भी लिखा हुआ है -राम रसायन तुम्हरे पासा, सदा रहो रघुपति के दासा ।।

सिंदूर चढ़ाते वक्त करें इस मंत्र का जाप

सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये।
भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम।।

यदि आप हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाना है । तो उसके लिए आपको सबसे पहले उनकी मूर्ति को स्नान करवाना चाहिए । इसके बाद इस मन्त्र का जाप करते हुए सिंदूर में थोड़ा सा चमेली का तेल मिला कर उनको चढ़ाये ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *