Shri Yantra

Shri yantra-जानिये प्रभाव, महत्व और उपयोग Leave a comment

What is the Sri Yantra?

हमारा भारत वर्ष आध्यात्मिकता का केंद्र है जो पूरे विश्व में प्रख्यात है। इसी प्रकार इस ख्याति को बांये रखने के लिए यहाँ हर एक व्यक्ति अपने ईष्ट देव को हमेशा प्रसन्न रखता है। तथा उस पर अपनी श्रद्धा बनाये रखने में रत रहता है।
इसी प्रकार हम यहाँ पर shri yantra के बारे में बताने जा रहे हैं।
जो माँ लक्ष्मी जी का एक आधार तथा मनुष्य को इस भूलोक में सभी प्रकार की सुख और समृद्धि प्रदान करती है। और मनुष्यों को ऐश्वर्य देती हैं तथा दरिद्रता को जीवन से दूर करती हैं।


What is the meaning of a Yantra?

शास्त्रों के अनुसार यह स्पष्ट रूप से विदित है की sri yantra  माँ भगवती त्रिपुर सुंदरी जी का यंत्र है। यंत्रों में इसे यंत्रराज के नाम से भी जाना जाता है। यह सर्व विदित है की श्रीयंत्र में माँ देवी लक्ष्मीजी का वास होता है।

How does the Shri Yantra function?

श्री यन्त्र संपूर्ण ब्रह्मांड की उत्पत्ति तथा विकास का प्रतीक माना जाता है। और इसी के साथ यह मानव शरीर का भी द्योतक है। Shri Yantra बहुत ही प्राचीन तथा शुभता का कारक माना जाता है।
श्री यन्त्र की अधिष्टात्री देवी स्वयं माँ श्रीविद्या अर्थात माँ त्रिपुर सुन्दरी हैं उन्हीं के रूप में इस यन्त्र पूजा जाता है।


How to keep shree yantra at home?

यंत्र शास्त्र के अनुसार श्री यंत्र लक्ष्मी जी को आकर्षित करने वाला प्रभावी श्री यंत्र के माध्यम से आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। और आर्थिक परेशानियां भी दूर हो जाती है। (sri yantra benefits)
शास्त्र में हर कार्य के लिए यंत्रों का निर्माण किया गया है। जिसमें फाइनेंसियल प्रॉब्लम को दूर करने के लिए shree yantra निर्माण किया गया है।

Does the Shri Yantra actually work?

शास्त्रों के अनुसार श्री यंत्र का निर्माण सिद्ध मुहूर्त में ही किया जाता है। जैसे की गुरुपुष्य योग, रविपुष्य योग, नवरात्रि धन-त्रयोदशी, दीपावली, शिवरात्रि, अक्षय तृतीया आदि शुभ तिथियां हैं। Shri Yantra निर्माण और स्थापन के लिए। और इन्हीं शुभ अवसरों पर श्री यंत्र की पूजा का विधान भी है।

Shri Yantra

Shree yantra pooja vidhi

श्री यन्त्र को किसी योग्य व्यक्ति के द्वारा ही सिद्ध कराना अच्छा रहता है। इसे सिद्ध करने के बाद आप, आपके घर में यानी की पूजा घर में स्थापित कर ले। आप यन्त्र को कसी भी अन्य स्थानों में जैसे कि दुकान में, ऑफिस में आप रख सकते हैं। नित्य इन मंत्रों से श्री यंत्र की पूजा करनी चाहिए।
श्री यंत्र की जितनी पूजा होती है, उतना ही उसका बल मिलता है। और उसकी शक्ति बढ़ती है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह भी है की आप इस  दिन लक्ष्मी नारायण की पूजा सफेद कमल अथवा सफेद गुलाब या पीले गुलाब से करें।

What are the total number of triangles present in a Shri Yantra?

इसके अलावा बहुत सारे यंत्र होते हैं जैसे कि कुबेर यंत्र होता है, व्यापार यंत्र होता ।है लेकिन Shri Yantra को सबसे महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त इसलिए हुआ है क्योंकि वह यंत्र का राजा है। (sree chakra)
पहले उसकी रचना समझनी बहुत ही आवश्यक है। श्री यंत्र की रचना पांच त्रिकोण के नीचे के भाग के ऊपर चार त्रिकोण के संयोजन से जिसमें 43 त्रिकोण द्वारा होती है।

What is the meaning of a Yantra?

इन त्रिकोणों  को दो कमल घेरे हुए होते हैं। पहला कमल अष्टदल का होता है। और दूसरा बाहरी कमल अष्टदल का षोडशदल होता है। यंत्र को हमें कोई अच्छा सा दिन देखकर शुक्लपक्ष शुक्रवार के दिन श्री यंत्र को गंगाजल से धो ले।


What is the Sri Yantra used for?

आप Shri Yantra को अपने मंदिर में स्थापित करें। माता लक्ष्मी का ध्यान करते हुए आपको रखना है। श्री यन्त्र मंत्र का जाप करते हुए यह कम से कम 21 माला आपको करनी है। जो कि 5 दिन तक करनी है। उसके बाद ही यंत्र सिद्ध हो जाता है। (sri yantra tattoo)

Shree yantra online

आप श्री यन्त्र की अधिक जानकारी हेतु आप इस दिए गए नंबर  9999474433 या  अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें। और आप प्रभु भक्ति एप्लीकेशन भी डाउनलोड कर और अधिक जानकारी के लिए प्रभु भक्ति चैनल को सब्सक्राइब करें।
आप जब श्री यन्त्र स्थापित करें तो इस मात्रा का जाप अवश्य करें। वैसे तो जिस भी व्यक्ति के द्वारा आप स्थपित कराएँगे वो तो मंत्र जाप करेंगे ही। और आप भी इस मंत्र का जाप करें। (sri yantra images)

Shri Yantra

Sri yantra mantra

श्री महालक्ष्म्यै नमः श्री ह्रीं क्लीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः!

Why do we established Shri Yantra at home & office?

श्री यन्त्र को घर में ऑफिस में या किसी भी ऐसी जगह जहाँ से आपको धन की प्राप्ति होती है उस जगह पर स्थापित किया जाता है। Shri Yantra बहुत ही ज्यादा शक्तिशाली, माँ ललितादेवी का पूजा चक्र है। (Srichakra)

Shree yantra mantra in hindi

श्री यन्त्र को मोहित करने वाला तीनों लोकों का मोहन यन्त्र भी कहते है। और यह यन्त्र सर्व रक्षाकरसर्वव्याधिनिवारक सर्वकष्टनाशक होने के साथ साथ सर्वसिद्धिप्रद सर्वसौभाग्यदायक भी माना जाता है। (laxmi yantra)

Which yantra is best?

श्री यंत्र समस्त यंत्रों में सर्वश्रेष्ठ होता है। तथा यह शुभ और लाभ को आपके जीवन में लाता है। श्री यन्त्र में साक्षात माँ लाक्ष्मी जी का वास होता है। श्री यन्त्र के इस्तेमाल से किसी भी प्रकार की आर्थिक समस्याएँ तुरंत मिट जाती हैं। (shri means)

What is the meaning of a Yantra?

यन्त्र का मतलब आध्यात्मिक दृष्टि से बहुत ही लाभकारी होता है। (sri chakra raja) जो किसी भी बुराई और अशुभता से मुक्ति दिलाने का उपाय  होता है। किसी समस्या से निदान दिलाने वाला उपाय ही यन्त्र है। इसी प्रकार यहाँ पर Shri Yantra है जो यांतो का राजा ऐसा बोला  जाता है।

Shri Yantra

Types of yantra

Surya Yantra Mahamrityunjaya Yantra Navagraha Yantra
Chandra Yantra Bagalmukhi Yantra Paravidhya Bedhana Sudarshana Yantra
Mangal Yantra Mahaan Siddhidayaka Shri Mahalakshmi Yantra Santhana Gopala Yantra
Buddha Yantra Kuber Yantra Vasthu Devatha Yantra
Guru Yantra Shani Sade Sati Yantra Karya Sidhi Yantra
Shukra Yantra Shatru Nivaran Yantra Sarva Aikya Mahaa Yantra
Shani Yantra Maha Neela Saraswati Yantra Sarva Raksha Yantra
Rahu Yantra Shri Yantra Aakarshana Yantra
Ketu Yantra Vijaya Yantra Kaamadeva Yantra
Susheela Yantra Kaala Sarpa Yantra Matsya Yantra
Bhoomi Yantra Vaastu Dosha Nivaarana Mahasiddhidayak Swastika Shriyantra Sheegra Vivaha Yantra
Matangi Yantra Meru Koorma Maha Yantra Vahan Durgatna Nivaran Yantra
Meru Yantra Mahaan Siddhidayal Vyaapar Vriddhi Yantra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *