Shiva panchakshari mantra

Shiva panchakshari mantra- Lord shiva mantra Leave a comment

Shiva panchakshara stotram

श्री महादेव या श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र के पाँच श्लोक जिनमे क्रमशः न म शि वा और य आते हैं। हम पाँचों अक्षरों को मिलाएं तो नमः शिवाय का निमार्ण हो जाता है। यही कारण है यह स्तोत्र shiva panchakshari mantra कहलाता है।


Shiv mantra

‘ऊं नम: शिवाय’मंत्र का मतलब आत्मा, घृणा, तृष्णा, स्वार्थ, लोभ, ईष्र्या, काम, क्रोध, मोह, मद और माया से रहित कर.
प्रेम और आनंद से परिपूर्ण होकर उस परमात्मा का सानिध्य प्राप्त करें। अर्थात् इस आत्मा का परमात्मा से मिलन होना।

Shiva panchakshari mantra


Om namah shivaya meaning

ॐ नमः शिवाय जिसमे पूरे ब्रह्माण्ड का रहस्य छुपा हुआ है। जिसके निरंतर जाप से मनुष्य के कल्प-कल्प के सारे पाप छूट जाते हैं.
और व्यक्ति परमगाई को प्राप्त होता है। lord Shiva का सबसे प्रिय षड्क्षर मंत्र का जाप मनुष्य को संसार से दूर परमेश्वर के और नजदीक ले जाता है।
आपके इस प्रणव मंत्र ‘ऊं’ के साथ ‘नम: शिवाय’ का जप करने से यह षड्क्षर मंत्र बन जाता है। (shiva panchakshari mantra)

Nagendra haraya trilochanaya meaning

नागेंद्रहाराय – हे प्रभु  शंकर, आप नागराज को हार स्वरूप धारण करने वाले हैं.  (shiva panchakshari)
त्रिलोचनाय – हे प्रभु तीन नेत्रों वाले (त्रिलोचन)
भस्मांग रागाय – प्रभु आप भस्म से अलंकृत है
महेश्वराय – महेश्वर है
नित्याय – प्रभु आप नित्य (अनादि एवं अनंत) है और
शुद्धाय – प्रभु आप शुद्ध हैं
दिगंबराय –अम्बर को वस्त्र के सामान धारण करने वाले दिगम्बर
तस्मै न काराय – प्रभु आपके “न” अक्षर द्वारा विदित स्वरूप को
नमः शिवायः – हे प्रभु शिव, नमस्कार है. (Shiva panchakshari mantra)

Shiva panchakshari mantra

Panchakshari mantra

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे न काराय नम: शिवाय:।।

मंदाकिनी सलिल चंदन चर्चिताय नंदीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय।
दारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय तस्मे म काराय नम: शिवाय:।।(Shiva panchakshari mantra)

शिवाय गौरी वदनाब्जवृंद सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय।
श्री नीलकंठाय वृषभद्धजाय तस्मै शि काराय नम: शिवाय:।।

वषिष्ठ कुभोदव गौतमाय मुनींद्र देवार्चित शेखराय।
चंद्रार्क वैश्वानर लोचनाय तस्मै व काराय नम: शिवाय:।।

यज्ञस्वरूपाय जटाधराय पिनाकस्ताय सनातनाय।
दिव्याय देवाय दिगंबराय तस्मै य काराय नम: शिवाय:।। (shiva panchakshari mantra)

पंचाक्षरमिदं पुण्यं य: पठेत शिव सन्निधौ।
शिवलोकं वाप्नोति शिवेन सह मोदते।।

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे ‘न’ काराय नमः शिवायः।।


How to become powerful by mantras

मंत्र जो मनुष्य को इस परमात्मा से मिला देते हैं। मंत्र का निरंतर जाप आपकी चित्तशुद्धि में सहायक होता है। मंत्र का जाप करने से मनुष्य में सात्विकता बढ़ती है। (Shiva panchakshari mantra)

Shiva panchakshari mantra

Why mantras are powerful?

और उसमे उपस्थित बुरी आदतें और जन्म दोष सारे ख़त्म हो जाते हैं। मंत्र का निरंतर जाप करने से जब मंत्र सिद्ध हो जाता है तो अवश्य ही वह मंत्र बहुत ही फलदायक और आत्मा से परमात्मा के मिलन का महान सेतु बन जाता है।

Which mantras is powerful?

मंत्र का निरंतर जाप अवश्य ही फलदायक होता है।और जब मंत्र सिद्ध हो जाता है तो मंत्र के प्रभाव से सारे जन्म दोष मिट जाते हैं और मनुष्य अपने परमधाम के द्वार खोल देता है तथा परमेश्वर से मिलने हेतु सक्षम हो जाता है। सभी मंत्र लाभकारी होते हैं यदि उनका सही से जाप किया जाए तो। (shiva panchakshari mantra)

Why are mantras so powerful?

मंत्र आपके चित्त को शुद्ध कर आपको माया के महा राज्य से दूर ले जाकर आपको ईश्वर के समीप ले जाते हैं। और आप निरंतर उस परमानन्द की गोद में मदमस्त हो जाते हैं।

Can ladies chant om nama shivaya?

अवश्य स्त्री भी मंत्र का जाप कर सकती हैं। परमेश्वर के नाम का जाप हर कोई कर सकता है। ईश्वर के दरबार में कोई भेद भाव नहीं चलता। आध्यत्मिक दृष्टि से हम बात करें तो हम सब उस परमेश्वर के अलग-अलग हिस्से हैं। (Shiva panchakshari mantra)

अर्थात हम सब एक ही आत्मा हैं। तो हर एक आत्मा को उस परमेश्वर का चिंतन करने की पूर्ण रूप से छूट है।

How many names does Lord Shiva have?

शिव जी के १०८ नाम हैं जिन्हे उनके अलग अवतारों और उनके गूणों के आधार पर रखा गया है।

Shiva panchakshari mantra

Shiva panchakshari mantra| lord shiva powerful mantra

Nagendra Haaraaya Thrilochanaaya
Bhasmaanga Raagaaya Maheshvaraaya
Nityaaya Suddhaaya Digambaraaya
Tasmai ‘Na’ kaaraaya Namah Shivaaya II1II (Shiva panchakshari mantra)

Mandaakini Salila Chandana Chaarthitaaya
Nandeesvara Pramatha Naatha Mahesvaraaya
Mandaara Pushpa Vahu Pushpa Supoojitaaya
Tasmai ‘Ma’ kaaraaya Namah Shivaaya II2II

Shivaaya Gauri Vadana Aravinda
Sooryaaya Dakshaadhvara Naashakaaya
Sree Neelakantaaya Vrisha Dhvajaaya
Tasmai ‘Shi’ kaaraaya Namah Shivaaya II3II (shiva panchakshari mantra)

Vasishta Kumbhodbhava Gautamaaya
Muneendra Devaarchita Sekharaaya
Chandraarka Vaishvaanara Lochanaaya
Tasmai ‘Va’ kaaraaya Namah Shivaaya II4II

Yajna Swaroopaaya Jataadharaaya
Pinaaka Hasthaaya Sanaatanaaya
Divyaaya Devaaya Digambaraaya
Tasmai ‘Ya’ karaaya
Namah Shivaaya II5II

Panchaaksharam Idam Punyam
Yah Pateh Shiva Sannidhau
Shivaloka Mavaapnothee
Shivena Saha Modate II6II (Shiva panchakshari mantra)

Shiva panchakshari mantra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *