Sankat mochan hanuman mandir varanasi बहुत प्रसिद्ध मंदिरों में से एक जरुर आए एक बार 1


Sankat mochan hanuman mandir varanasi

Sankat mochan hanuman mandir varanasi जय श्री राम!  जय बजरंग बली की! भक्तो आज का दिन बहुत अनमोल है क्यों की आज हम आपको संकट मोचन हनुमान मंदिर जो की वारानसी में स्थापित है|  उसके बारे में बताने जा रहे है| संकट मोचन फाउंडेशन पृष्ठ मौजूद नहीं है| संकट मोचन फाउंडेशन की स्थापना मंदिर के महंत श्री वीर भद्र मिश्र द्वारा 2282 हुई थी वैसे तो हर मंदिर ही भगवान हनुमान का मंदिर होता है लेकिन ऐसी क्या बात है|


जो  भक्त दूर दूर से हनुमान जी के दर्शन करने varanasi  में आते है| क्यों varanasi का यह हनुमान मंदिर इतना प्रसिद है आइये आज जाने के हनुमान मंदिर varanasi के बारे में और उससे जुडी और बाते|

Sankat mochan mahabali hanumaan संकट मोचन हनुमान मंदिर

हनुमान बहुत ही शक्ति शाली थे हनुमान की शक्ति के बारे में हर किसी को पता है| हनुमान जी की कृपा पाने के लिए उन की भक्ति करनी होती है| हनुमान जी को संकट मोचन क्यों कहा जाता है इसका अर्थ क्या है आइये जानते है| संकट मोचन का अर्थ है परेशानियों अथवा दुखों को हरने वाला। इसलिए जो भी व्यक्ति हनुमान जी की पूजा करता है|


उस पर कभी  कोई दुःख नही आता और अगर आ भी जाता है तो खुद स्वयं भगवान हनुमान उसकी रक्षा करने वहा जरुर आते है| कहा जाता है हनुमान जी का एक बहुत प्रसिद मंदिर है| जहा भक्त दूर दूर से हनुमान जी के दर्शन करने आते है| यह मंदिर वाराणसी उत्तर प्रदेश भारत में स्थित है। इस मंदिर की रचना बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के स्थापक श्री मदन मोहन मालवीय जी द्वारा 1900 में हुई थी।

sankat mochan mahabali hanumaan

Sankat mochan mahabali hanumaan संकट मोचन

संकट मोचन Sankat mochan hanuman mandir varanasi  फाउंडेशन की स्थापना मंदिर के महंत श्री वीर भद्र मिश्र द्वारा 2282 हुई थी| वे गंगा नदी की सफ़ाई और सुरक्षा पर कई काम से जुड़े रहे हैं। इन परियोजनाओ के लिए आर्थिक सहायता अमेरिकी और स्वीडिश सरकारों द्वारा प्राप्त होती हैं। वाराणसी के संकट मोचन हनुमान मंदिर में  हनुमान जयंती बड़े धूमधाम से मनायी जाती है|

इस ही दिन एक विशेष शोभा यात्रा भी निकाली जाती है| जो की  दुर्गाकुंड से सटे ऐतिहासिक दुर्गा मंदिर से सुरु हो कर संकट मोचन तक निकली जाती है| इस दिन हनुमान जी का परसाद भी  मिलता है शुद्ध घी के बेसन के लड्डू | गले में गेंदे के फूलों की माला सुशोभित की जाती है| इस मंदिर में जो मूर्ति है कि भगवान हनुमान की मूर्ति की स्थापना इस प्रकार हुई हैं कि वह भगवान राम की ओर ही देख रहे हैं|

Varanasi temple

varanasi Sankat mochan hanuman mandir varanasi  मंदिर जो हनुमान जी का सबसे प्रसिद मंदिरों में से एक है| यह मंदिर की  स्थापना कवि तुलसीदास ने की थी। तुलसीदास का नाम तो अपने सुना होगा वो अवधी संस्करण रामचरितमानस के लेखक थे। अगर वहा की परम्पराओं की बात की जाए तो कहा जाता हैं की जो व्यक्ति यहाँ आता है उसपर नियमित रूप से आगंतुकों पर भगवान हनुमान की विशेष कृपा होती हैं।

वैसे तो इस मंदिर के द्वार हमेशा खुले रहेते है लेकिन हनुमान जी का वार होने की वजह से यहाँ हजारो की तदार पर भक्त आते है|  मंगलवार और शनिवार, हज़ारों की तादाद में लोग भगवान हनुमान को पूजा अर्चना करते है| और अगर ज्योतिष की मने तो हनुमान मनुष्यों को शनि गृह के क्रोध से बचते हैं अथवा जिन लोगों की कुंडलियो में शनि गलत स्थान पर स्तिथ होता हैं|.


Hanuman sankat mochan

आइये अब जानते है हनुमान मंदिर से जुडी और खास बाते जो आपको यहाँ आने पर मजबूर कर देगी| वैसे तो हर वैदिक और ज्योतिष यहाँ उपचार ke लिए आते है| और बहुत लोग भी यहाँ अपनी बीमारी को ठीक करने के लिए भी आते है| कहा जाता है यहाँ आने से चाहे कितनी पुराणी बीमारी क्यों न हो दूर जरुर हो जाती है| माना जाता है की ऐसा इसलिए होता है क्यों की  भगवान हनुमान सूर्य को फल समझ कर निगल गए थे| तत्पश्चात देवी देवताओं ने उनसे बहुत याचना कर सूर्य को बाहर निकालने का आग्रह किया। और ऐसे ही कुछ ज्योतिषो का मानना हैं कि हनुमान की पूजा करने से मंगल गृह के बुरे प्रभाव अथवा मानव पर अन्य किसी और गृह की वजह से बुरे प्रभाव को बेअसर किया जा सकता हैं।

sankat mochan mahabali hanumaan

Sankat mochan mahabali

अब आपको बात करवाते है पुरनी कथा के बारे में एक बार की बात है मार्च 2006  को वाराणसी में हुए आतंकवादी हमलों में से तीन विस्फोटों से एक विस्फोट मंदिर में हुआ था। उस ही टाइम मंदिर में आरती हो रही थी जिसमे भारी मात्रा में उपासको और शादी उपस्थितगन मौजूद थे।

Sankat mochan hanuman mandir varanasi विस्फोट के बाद वहाँ मौजूद भींड़ ने बचाव अभियान में एक दूसरे की सहायता की। अगले दिन फिर से श्रद्धालुओं की बड़ी सख्या के साथ मंदिर में पूजा पुनः आरंभ हुई।

Sankat mochan hanuman temple

संकट मोचन हनुमान मंन्दिर Sankat mochan hanuman mandir varanasi  में हनुमान जयंति के दिन से संगीत समारोह आरम्भ होताा है |  जिसकी सुरुवात  कैली महाराज ने की थी। संकट मोचक मंदिर बालाजी बहुत ही सुन्दर और प्यारा, चमत्कारी मंदिर में से एक है| इस मंदिर को वानर मंदिर के नाम से भी जाना जाता है|  क्योंकि इस मंदिर के आस पास बन्दर बहुत ही अधिक है|

ऐसा दिखाई देता है  कि श्री हनुमान जी अपनी वानर सेना के साथ इस मंदिर में रमे हुए है। यह मंदिर वाराणसी शहर में स्तिथ है। और जैसा इस मंदिर का नाम है वैसे ही यह मंदिर में आने से संकट दूर होते है|

Aarti Timing

इस मंदिर में लोग हजारो की तदार पर आते है और अपने संकट दूर करते है| जैसा ही मंदिर का नाम है वैसा ही फल प्राप्त होता है| यह मंदिर में वैसे तो आप भी आ जा सकते हो लेकिन जैसे हर चीज के नियम होते है वैसे ही इसके भी नियम है जैसे की आरती का समय क्या है| जो लोग दूर दूर से आते है| और पहली बार दर्शन करने आ रहे हो तो उन्हें आरती जरुर देखनी चाइये कहा जाता है|

यह आरती बहुत किस्मत वालो को देखने को मिलती है| यह दिन में 2 बार होती है और इसका समय सुबह 5 बझे है जो की मानला आरती के नाम से जाना जाता है और एक सयम को 9 बजे सायन आरती के नाम से जाना जाता है|

Opening Time of the Temple

Sankat mochan hanuman mandir varanasi  वैसे तो खुला रहेता है लेकिन दर्शन करने के लिए सुबह 5 से रात को 9 बजे तक आप मंदिर के अन्दर रुक सकते है और 9 बजे के बाद आपको आश्रम या वहा रूम्स में रुकना आल्लो होता है| यहाँ कोई भी व्यक्ति दर्शन करने आ सकता है चाहे आमिर हो या गरीब कला हो या गोरा यहाँ किसी के लिए कोई माना नही है क्यों की भगवान तो सबके है| और जो यहाँ भक्ति भाव से आता है भगवान उनसे जल्दी प्रशन होते है और उनकी हर मनोकामना पूरी होती है|

One Comment

Trackbacks and Pingbacks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *