Rudraksha रुद्राक्ष क्या है इसका प्रचलन कहा से सुरु हुआ और क्या है इसके फ़ायदे Leave a comment


Rudraksha mala

रुद्राक्ष आपने सुना होगा और आपने  इसे बहुतो को पहने हुए भी देखा होगा| लेकिन वो लोग इसे क्यों पहनते है कभी आपने सोचा है? आप सोचते होगे की इसे धारण वो हो करते है वो पंडित होते है या सन्यासी| पर यह सोच बिलकुल गलत है| आइये जानते है रुद्राक्ष क्या होता है और उसे धारण करने के क्या फ़ायदे है| Rudraksha एक ऐसी वास्तु है जिसे धारण करने से कभी कोई दुःख पास नही आता| यह पहले सिर्फ पंडित द्वारा धारण किये जाते थे| क्यों की किसी को भी इसका महत्व नही पता था लेकिन जैसे जैसे लोगो को इसका महत्व का पता चला यह बहुत ही मांग में आने लग गया है| हर व्यक्ति इसे खरीदना चाहता है| क्यों की इसके फायदे ही अनेक है|
Rudraksha


Rudraksha tree

यह एक माला है जो की एक पेड़ का बीज है। यह पेड़ बहुत ही अनमोल माना गया है| ये पेड़ आमतौर पर पहाड़ी इलाकों में ऊंचाई पर होता है| हिमालय और पश्चिमी घाट सहित कुछ और जगहों पर भी पाए जाते हैं। पहले यह हर जगह आसानी से मिल जाते थे लेकिन अफसोस की बात यह है लंबे समय से इन पेड़ों की लकड़ियों का इस्तेमाल भारतीय रेल की पटरी बनाने की वजह से काट दिया गया है|  जिस वजह से इसका मिलना जैसे जंग जीतने के बराबर हो गया है|  जिस वजह से आज पुरे भारत देश में बहुत कम रुद्राक्ष के पेड़ बचे हैं। रुद्राक्ष का महत्व क्या है और इससे धारण करने से क्या फायदा होता है आइये जानते है|

aiye jante hai तुलसी के पत्तो की माला में है गज़ब शक्ति … फायदे जान कर हो जायेंगे हैरान


Ek mukhi rudraksha

रुद्राक्ष एक सुरक्षा कवच के तरह काम करता है जो की आपको हर परेशानियों से बचाता है| आपके जीवन में आने वाली परेशानियों से आपको दूर रखता है|  इसे धारण करने से  बाहरी ऊर्जाएं आपको परेशान नहीं कर पातीं। इसीलिए रुद्राक्ष को ऐसे लोगों को अवश्य धारण करना चाइये| जो लगातार यात्रा करते है|  जिन्हें हर रोज अलग-अलग जगहों पर रहना पड़ता है।आपने महसूस किया होगा की आप बहार जाते है तो आपको कुछ जगहों पर फौरन नींद आ जाती है| लेकिन कुछ जगहों पर बेहद थके होने के बावजूद आप सो नहीं पाते। यह इस वजह से होता है क्यों की आपके आस पास का माहौल आपकी ऊर्जा के अनुकूल नहीं होता|

 

janiye कैसे उत्पन्न हुआ रुद्राक्ष और क्या है इसका महत्व !

रुद्राक्ष का महत्त्व  Rudraksha benefits

आपने कभी देखा और सुना भी होगा जो साधु-संन्यासी जंगल में या  खुले में रहते है वो हमेशा रुद्राक्ष पहन कर रखते है क्योकि रुद्राक्ष उनकी मदद  करता है यह जाने में की वहा का पानी पीने लायक है या नहीं। क्यों की जंगल में  जहरीली गैस और जहरीला भी हो सकता है। जो उन्हें संकेत देता है की वह उनके लायक है या नही| यह जानना उनके लिए बहुत ही आशन होता है रुद्राक्ष को पानी के ऊपर पकड़ कर रखने से अगर वह खुद-ब-खुद घड़ी की दिशा में घूमने लगता है| तो समझ जाते है  कि वह पानी पीने लायक है। अगर पानी जहरीला या हानि पहुंचाने वाला होगा तो रुद्राक्ष घड़ी की दिशा से उलटा घूमता है|

Ardhanareswar Shivling bana linga शिवलिंग की उत्पत्ति कैसे हुई और कैसे होता है फायदा


Rudraksha ratna

रुद्राक्ष कि  महत्वपूर्ण बाते आइये जानते है। माना गया है की सब से पहले रुद्राक्ष भगवान् शिव के पास देखा गया था| उसके बाद से रुद्राक्ष को भगवान् शिव का आधार मान लिया गया  है| और रुद्र का अर्थ है शिव| भगवान् शिव जब भी पूजा में लीन रहेते थे या नाम अक्षर चलते थे तो वो भी रुद्राक्ष का सहारा लेते थे| क्यों की कथाओ के अनुसार माना गया है की रुद्राक्ष अगर पास होता है तो उस स्थान पर कोई भी नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नही होता| जिस वजह से कर रहेकाम में कोई परेशानी नहीं आती और काम सही तरीके से सम्पूर्ण होता है| यह ही करना है भगवान शिव पूजा के समय ध्यान के समय रुद्राक्ष का इस्तमाल किया करते थे| आज भी जो भक्त शिव का भक्त है वो रुद्राक्ष का सहारा लेता है| और उसका हर कार्य सफल होता है|
Rudraksha

5 Mukhi Rudraksha benefits

पंच्मुकी रुद्राक्ष नकारात्मक ऊर्जा से बचाता है| बहुत से लोग नकारात्मक शक्ति का इस्तेमाल करके दूसरों को नुकसान पहुंचाते हैं। यह अपने आप में एक अलग विज्ञान है। कथाओ में इसके बारे  में बताया गया है कि ऊर्जा को अपने फायदे और दूसरों के अहित के लिए प्रयोग में लाया जा सकता है। अगर कोई इंसान इस विद्या में महारत हासिल कर ले|  तो वह अपनी शक्ति के प्रयोग से दूसरों को किसी भी हद तक नुकसान पहुंचा सकता है| यहां तक कि दूसरे की मृत्यु भी हो सकती है। इन सभी स्थितियों में रुद्राक्ष कवच की तरह कारगर हो सकता है|अब आप यह सोच रहे होगे कि कोई मुझे क्यों नुकसान पहुंचाएगा| लेकिन यह जरूरी नहीं कि जानबूझकर आपको ही लक्ष्य बनाया गया हो। ऐसा भी हो सकता है की आपके पास बैठे व्यक्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की जा रही हो|

Rudraksha bracelet

ऐसे में उस पर न होने की वजह से वह आप पर हो सकती है| उस शक्ति का नकारात्मक असर आप पर भी हो सकता है। और अगरइसे ऐसे समझें की सडक़ पर दो लोग एक-दूसरे पर गोली चला रहे हो लेकिन गोली गलती से आपको लग जाए| भले ही गोली आप पर नहीं चलाई गई हो पर फिर भी आप जख्मी हो सकते हैं| क्योंकि आप गलत वक्त पर गलत जगह पर मौजूद थे। हालांकि इस सबसे डरने की जरूरत नहीं है| बस आपको रुद्राक्ष को धारण करना है जो आपको ऐसे परिस्थिति से बचाती है| रुद्राक्ष 1 मुखी से लेकर 21 मुखी तक पाए जाते है  जो अलग अलग लोगो के लिए अलग अलग होते है| इस में पंचमुखी रुद्राक्ष सबसे सुरक्षित होता है और वो हर कोई धारण कर सकता है| यह स्त्री, पुरुष, बच्चे, हर किसी के लिए अच्छा माना जाता है।

रुद्राक्ष की पहचान कैसे करें Original Rudraksha

रुद्राक्ष की पहचान करना बहुत ही जरुरी है| क्यों की बाज़ार में लोग अपनी कमाई करने के लिए नकली  रुद्राक्ष बेचे जा रहे है| और वो भी डबल कीमत पर| क्यों की किसी को भी नही पता रुद्राक्ष को कैसे जाना जाए की वो असली है या नकली| मैंने आपको ऊपर बताया था की पहले यह साधु संत धारण करते थे क्यों की वह जंगल में रहेते थे और पानी की तलाश में रहेते थे| जब उन्हें पानी दिखाई देता था तो वो पानी को जचने के लिए रुद्राक्ष का सहारा लेते थे|  पहले यह आसानी से मिल जाता था लेकिन जैसे जैसे लोगो की आबादी बढ़ती गई वैसे वैसे इसका मिलना बहुत ही कम हो गया जिस वजह से यह महंगा भी हो गया|

Rudraksha movie

रुद्राक्ष बहुत से मुखी के आते है और हर व्यक्ति के लिए मुखी अलग अलग होती है| यह 5 mukhi rudraksha, 7 mukhi rudraksha, 6 mukhi rudraksha, 1 mukhi rudraksha ऐसे आते है| यह फायदों के साथ साथ हर व्यक्ति को अलग अलग राशी के आनुसार धारण करना चाइये| यह आपको ख़रीदे वकत लेने वाले व्यक्ति से जरुर पूछना चाइये की यह कितनी मुखी का है| और इसको धारण करने की विधि क्या है| ध्यान रहे जब आप रुद्राक्ष धारण करते हैं| तो यह आपके प्रभामंडल की शुद्धि करता है।

जाने आखिर क्यों होते है जप के माला में 108 दाने तथा क्यों पड़ती ही माला की जरूरत मन्त्र जाप के लिए !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *