Pratyangira devi प्रत्यंगिरा देवी उपाय साधना एवं सिद्धि पूजा और शत्रु से बचने के उपाय Leave a comment


Pratyangira devi in hindi

Pratyangira devi आपने बहुत से मंत्र और उपाय के बारे  में सुना होगा|  और अपनी आवश्यकता अनुसार आपने बहुत से उपाय भी किये होगे| आज कल की जिन्दगी में कोई किसी की कमाई या सुख से सुखी नही है| कोई भी इन्शान किसी को ख़ुश नही देख सकता और उससे नुकसान पहुचने के लिए तरह तरह के उपाय करता रहेता है| जिस की वजह से दुसरे व्यक्ति को तकलीफ और परेशानी होती है| वो अपने दुःख को कम करने के लिए तरह तरह के उपय करता है| फिर भी कही बार उससे सफलता प्राप्त नही हो पाती तो आइये आज जानते है| कुछ ऐसे उपाय जिससे करने से आपको हर दुःख से छुटकारा मिल सकता है|
Pratyangira devi


जानिए कैसे होता है Dhan prapti ke upay

Pratyangira devi story

किसी भी वास्तु के इस्तमाल से पहले उसके बारे में जानना बहुत जरुरी होता है| क्यों की जब तक आपको उसके बारे में नही पता होगा आप उसका इस्तमाल कैसे करेगे| तो आइये सबसे पहले जानते है की Pratyangira devi कौन थी और उन्हें इतनी मान्यता क्यों दि जा रही है| प्रत्यंगिरा  एक हिन्दू माता देवी थी| उसका सिर सिंह की तरह है औरबाकी शरीर मानव जैसा है| यह शक्ति से बरपुर है ये विष्णु दुर्गा काली नरसिंह के एकीकृत रूप हैं। इन की शक्ति की बात की जाए तो बलवान शत्रु को परास्त करने वाली देवी का नाम प्रत्यंगिरा है। और इनकी पूजा करने से ऋण, रोग, और शत्रु को निष्प्रभावी करने के सभी उपाय, शत्रु नाश के लिए विफल हो जाते हैं।


जानिए आखिर क्यों भागे शिव सती का विकराल रूप देख – देवी पुराण रोचक कथा !

Pratyangira devi mantra pdf

आपने इस मंत्र को मंगलवार को यह मंत्र उपाय के साथ पढना है और इस मंत्र को हर रोज पूजा करते समय भी पढना है| ऐसा करने से आपके घर के मानसिक,आर्थिक समस्या दूर होगी साथ ही दुश्मन से भी बच पाए गे|
या देवी सर्वभूतेषु बुद्धि रुपेण संस्थिता | या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मी रुपेण संस्थिता | नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ||
Pratyangira devi 3

Sri pratyangira devi kavacham

आप लोगो ने प्रत्यंगिरा देवी के बारे में तो जान लिया होगा| अब जानते है प्रत्यंगिरा देवी की अगर पूजा की जाए तो आपको इस सारी समस्या से आपको मुक्ति मिल जाएगी| यदि आपको भी यह सब समस्या है जैसे आप मेहनत करने के बाद भी आपको सफलता नही मिल रही हो या शत्रु आपके पीछे पढ़ा हो, निरंतर किसी न किसी रूप में आपको आर्थिक, मानसिक, शारीरिक क्षति पहुंचा रहा हो और आपके भविष्य को चैपट कर रहा हो तो आपको प्रत्यागिरा देवी की पूजा करनी चाइये और आप इस का मंत्र भी अपने घर ला सकते है|  जिससे आपके घर में आए हुए नेगेटिविटी दूर होगी और बुरी नज़र से बच पाएगे| य ह मंत्र आपको हर सफलता प्राप्त करवाता है क्यों की इस मंत्र को रखने से आप अपने शत्रु के वार से बच पाएगे|


देवी प्रत्यंगिरा Pratyangira devi temple

भगवती प्रत्यंगिरा देवी का अत्यंत उग्र रूप है| इनकी कृपा से हर जीवन सुदर जाता है| और विजय प्राप्त भी होती है| पंरतु यह सब करने से पहले आपको देवी पर अटूट श्रद्धा और विश्वास होना चाहिये| और अटूट श्रद्धा होने पर निश्चित हि साधक को इच्छित फल की प्राप्ति होती है| प्रस्तुत प्रयोग,साधक को न्यायालय से जुड़े कार्यों में सफलता दिलाता है| जो लोग प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रह है| वह भीइस साधना को कर अपनी सफलता के अवसर बड़ा सकते है| यदि लाख परिश्रम के पश्चात भी आपको किसी कार्य मे सफलता नही मिल रही है तो यह प्रयोग कर आप सफलता के निकट पहुँच सकते है|

इन पांच लोगो के घर कभी कदम भी नहीं रखती देवी लक्ष्मी ये जिंदगी भर होते है गरीब

How to worship pratyangira devi at home

आपको प्रति गिरा देवी के मंदिर में जा कर इस प्रकार पूजा करनी होगी| आप कोई भी एक मंगलवार की रात्री को 10 बजे के बाद आरंभ कर सकते है| आपको स्नान कर लाल वस्त्र धारण कर लाल आसन पर बैठ होगा| फिर आपको एक कागज़ लेना है औरउसपर हल्दी के घोल से अनार की अथवा पिपल की कलम से एक स्त्री का चित्र बनाये| यह आवश्यक नही है की चित्र बहुत सुन्दर हो| फिर इस चित्र को बाजोट पर लाल वस्त्र बिछाकर उस पर स्थापित कर दे| अब चित्र का प्रत्यंगिरा देवी मानकर सामान्य पुजन करे| संभव हो तो लाल पुष्प अर्पित करे.शहद ओर द्राक्ष को मिलाकर भोग रूप मे अर्पित करे.जिसे साधक को अंत मे स्वयं खाना है| इसके बाद साधक अपने कार्य मे विजय प्राप्ति का संकल्प लेकर,निम्न प्रत्यंगिरा गायत्री का 11 माला जाप रूद्राक्ष माला से करे|

प्रत्यंगिरा Pratyangira devi puja at home

माँ देवी की और यन्त्र मंत्र की ११ माला पुर्ण हो जाये तोसाधक घृत में द्राक्ष मिलाकर 111 आहुति प्रदान करे| ईसके पश्चात भोग ग्रहण कर,पुनः प्राथना करे| इस प्रकार यह उपाय पूरा होगा| अगले दिन चित्र पर हल्दि का लेप लगाकर किसी वृक्ष के निचे रख आये| आप जिस क्षेत्र मे विजय प्राप्त करना चाहते है,आपको उसमे सफलता अवश्य मिलेगी,बस आपकी ईच्छा उचित होनी चाहिये| साधक चाहे तो दो या तीन मंगलवार इस प्रयोग को कर सकता है|

जानिए माँ लक्ष्मी पूजा में न करे ये गलती नाराज होती है धन की देवी लक्ष्मी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *