Panchmukhi Hanuman | Panchmukhi Hanuman story | Hanuman mantra Benefits Leave a comment


Panchmukhi Hanuman

बरजरंगबलि की महिमा से कौन अवगत नहीं है । हनुमान जी हमारे सभी दुखो को हरते है यदि आप पर शनि की बुरी नजर है । और अपने घर की सभी बुराइयों को दूर करने के लिए हनुमान जी की पूजा की जाती है यदि आप अपने जीवन की समस्याओ से बहुत ही ज्यादा पेरशान है तो आप पंचमुखी हनुमान जी की पूजा हर मगलवार को करना शरू करे ।आपके जीवन की समस्या दूर होने लग जायगी । panchmukhi hanuman  , हनुमना जी का एक बहुत ही दुर्लभ रूप है ।ऐसा कहा जाता है की ये रूप हनुमान जी रावण के भाई अहिरवन की मृत्यु के लिए लिया था


पंचमुखी शब्द का अर्थ है, पांच चेहरे। हनुमाजी का पंचवटी अवतार पांच चेहरे का है। हनुमान जी ,शक्ति , ऊर्जा, एकता और ज्ञान का प्रतीक है।

panchmukhi hanuman ji

panchmukhi hanuman ji  मूर्ति या तस्वीर को घर में रखना बहुत ही शुभ माना जाता है यदि हम वास्तु के हिसाब से इसे घर में रखे तो और ज्यादा फायदा होगा । वास्तु के अनुसार पंचमुखी हनुमान जी को दक्षिण-पश्चिमी कोने में रखे है । आपके घर में बहुत लाभ होगा ।

हनुमान जी पांच मुँह वाला बड़ा रूप या आप पंचमुखी हनुमान का अवतार हमे बताता है पांच दिशाओं के बारे में ।हर एक रूप का कुछ ना मतलब जरूर होता है प्रत्येक स्वरूप में एक मुख, त्रिनेत्र और दो भुजाएं हैं। इन पांच मुखों में नरसिंह, गरुड़, अश्व, वानर और वराह रूप हैं। इनके पांच मुख क्रमश: पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण और ऊ‌र्ध्व दिशा में प्रधान माने जाते हैं। panchmukhi hanuman ji की पूजा करने से आपको अपने शस्त्रुओ पर विजय प्राप्त होगी ।


Panchmukhi Hanuman story

panchmukhi hanuman जी के जन्म के पीछे बहुत रोचक कहानी है । जब राम और रावण का युद्ध चल रहा था तब रावण को अपने हारने का डर लगा ।तो उसने  अहिरावाना की मदद ली। जो की उसके भाई होने के साथ -साथ वह पाताल-लोक का राजा भी था।

अहिरावाना ने खुद को विभीषण का रूप ले लिया । अहिरावाना को टोना -टोकना और तंत्र मन्त्र सब जानता है । उसने राम और लक्षमण को अपने पटल लोक में छिपा लिया था जब हनुमान को घटना के बारे में पता चला, तो उन्होंने पाताल-लोका में प्रवेश किया। अपनी खोज के दौरान, उन्होंने पाया कि अहिरावाना का जीवन पांच दीपक छुपा हुआ है। सभी दीपक अलग-अलग दिशाओं में रखे गए थे।

अहिरावाना को को पता था कि वह एक ही समय में सभी पांच दीपक बुझाने के बाद ही उसको मारा जा सकता था। इसलिए हनुमान जी ने panchmukhi hanuman का रूप धारण किया और एक ही समय में सारे दीपक बुझा दिए और अहिरावाना की मृत्यु हो गयी ।

Panchmukhi Hanuman ji Benefits

  • यह आपके जीवन की चुनोतियो को कम करता है और आपके सभी दुखो का निवारण करता है ।
  • आपके कुंडली के हानिकारक ग्रहो के प्रभाव को कम करता है ।
  • किसी के व्यापर में उन्नति के लिए पंचमुखी हनुमान जी की पूजा करे । आपके व्यापर में बहुत लाभ होगा ।
  • किसी भी व्यक्ति को रोगो से दूर करता है panchmukhi hanuman
  • एक व्यक्ति को बहुत ऊर्जावान और महत्वकांशी बनाता है ।

Panchmukhi Hanuman Mantra

ॐ पिंग-केशाय नमः


दोस्तों इस मंत्र का आप प्रतिदिन जाप करते हैं हनुमानजी की प्रतिमा के समक्ष और हनुमान जी की कौन सी प्रतिमा होनी चाहिए । पंचमुखी हनुमान की प्रतिमा वहां पर आपके समक्ष होनी चाहिए । और इस मंत्र का आप को कम से कम 8 बार जप करना चाहिए । अगर पूरे दिन में इतना जब आप कर लेते हैं तो निश्चित तौर पर पंचमुखी हनुमान की कृपा आपके ऊपर बनी की और जल्द से जल्द आपकी उन्नति होगी।क्योंकि पंचमुखी हनुमान करते हैं कल्याण और व्यक्ति जल्द से जल्द बनता है धनवान

ओम श्रीपंचमुखहनुमंताय आंजनेयाय नमो नम:|| 

अगर मंत्र यह दूसरा मंत्र है इस मंत्र का भी अगर आप निष्ठा पूर्वक प्रतिदिन सुबह के समय पर इसका जाप करते हैं ब्रह्म मुहूर्त में इसका विशेष फल बताया गया है और धर्म ग्रंथों में इसका विशेष हनुमान जी की कृपा व्यक्ति के ऊपर तभी बनती है जब वह व्यक्ति सात्विक और वैराग्य से पूर्ण होता है बैरागी का अर्थ ब्रह्मचर्य अगर कोई भी व्यक्ति ब्रह्मचर्य में ब्रह्मचर्य का पालन करता है और इस मंत्र का जाप करता है|

तो हनुमान सिद्धि उसे हो जाती है भक्ति उसके अंदर जागृत हो जाती है क्योंकि सबसे बड़ा भक्त हनुमान जी को ही बताया गया है वहीं एक आदर्श अवतार के रूप में इन्होंने त्रेता युग में जन्म लिया था तो हनुमान जी के इस मंत्र से सभी का कल्याण होता है कोई व्यक्ति निष्ठा पूर्वक इन मंत्रों का जाप प्रतिदिन करता है तो जल्द से जल्द उसकी उन्नति होती है उसके रुके हुए कार्य जल्द से जल्द पूर्ण होते हैं साथ ही साथ धन सौभाग्य की भी वृद्धि उसको प्राप्त होती है|

शिव के 11 अंश अर्थात रूद्र अवतार में से 11 अंश के रूप में इन्होंने जन्म लिया था और उसी समय से हनुमान जी की कृपा संपूर्ण जगत में इनको भी कहा गया है संजीवी हमारे धर्म ग्रंथों में बताए गए हैं इनको उनमें से यह एक हैं और सदा अपने भक्तों पर कृपा बरसाने वाले हैं इसलिए हनुमान जी की उपासना सभी को करनी चाहिए

Panchmukhi Hanuman Stotra

आप सभी जानते ही होंगी की अगर आपको हनुमान जी को खुश करना है तो उसका सबसे आसान और सरल उपाय की आप भगवान श्री राम को खुश करे । इसलिए बजरंगबली की पूजा करने से पहले रघुनंदन राम की यह स्तुति गाएं और उनकी कृपा-दृष्टि‍ पाएं –

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम् ।
नवकंज लोचन, कंज मुख, कर कंज, पद कन्जारुणम ॥1॥

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम ।
पट पीत मानहु तड़ित रुचि शुचि नौमी जनक सुतावरम् ॥2॥

भजु दीनबंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम् ।
रघुनंद आनंदकंद कौशलचंद दशरथ नन्दनम ॥3॥

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारू उदारु अंग विभुषणं ।
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धुषणं ॥4॥

इति वदति तुलसीदास शंकर-शेष-मुनि-मन-रंजनम् ।
मम् हृदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम् ॥5॥

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सांवरों ।
करुना निधान सुजान सिलु सनेहु जानत रावरो ॥6॥

एही भांती गौरी असीस सुनि सिय सहित हिय हरषी अली ।
तुलसी भवानी पूजि पूनि पूनि मुदित मन मंदिर चली ॥7॥

दोहा- जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि ।
मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे ॥

Read Also Panchmukhi hanuman kavach

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *