Om Namah Shivaya Mantra Meaning

“ॐ नमः शिवाय ” यह मन्त्र हिन्दुओ के सबसे महत्वपूर्ण मंत्रो में से एक है ।यह मन्त्र जितना सरल है उतना ही चमत्कारी भी है । यह मन्त्र हमारे शरीर का शुद्धिकरण करता है और इसके साथ ही यह हमारे अंदर ध्यान करने की क्षमता को भी बढ़ाता है । Om Namah Shivaya का मूल अर्थ की मै भगवान् शिव को नमस्कार कर रहा हूँ इसे शिव पञ्चाक्षर मंत्र या पञ्चाक्षर मंत्र भी कहा जाता है।

यह मन्त्र पूरी तरह भगवान शिव को समर्पित है । इसके साथ ही इसे पंचाक्षरी मंत्र या पञ्चाक्षर मंत्र भी खा जाता है । क्योंकी इसमें मौलिक ध्वनि ॐ शब्द के साथ 5 अक्षरी मंत्र (न+मः+शि+वा+य) शामिल है। इस मन्त्र का जाप किसी भी समय किया जा सकता है इससे धार्मिक लाभ के साथ साथ हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अधिक लाभकारी है ।

om namah shivaya

ॐ नमः शिवाय और ॐ शिवाय नमः में क्या अंतर है ?

सबसे पहले आपको यह पता होना चाहिए की ॐ से शिवलिंग का पूजन किया जाता है । जबकि नमः शिवाय  (Om Namah Shivaya) के दुवारा शिवमूर्ति का पूजन किया जाता है । शिवलिंग को शिव का निराकार रूप कहा जाता है जबकि शिव मूर्ति को शिव का बेर रूप कहा जाता है । तो आप पूरी तरह इस बात को अच्छे से समझ ले की । यदि आप शिवलिंग की पूजन कर रहे है तो आपको ॐ का ही जाप करना है । और यदि आप शिव की मूर्ति की पूजा कर रहे हो तो आप केबल नमः शिवाय का जाप करो ।

ॐ नमो भगवते रुद्रया नमः का क्या मतलब है ?

ओम नमो भगवते रुद्राय नमः भगवान शिव का मन्त्र है और इसकी महत्ता यह है कि वैष्णव संप्रदाय में जो चार संप्रदाय वैष्णव के बताए गए हैं उनमें से रामानंदी संप्रदाय में अगर कोई व्यक्ति गुरु दीक्षा लेता है गुरु से उसको इस मंत्र की दीक्षा प्राप्त होती है और इस मंत्र को जाप करने से वह जल्द से जल्द दी भक्ति तो प्राप्त करता ही है साथ ही साथ भगवत प्रीति भी उसे प्राप्त होती है|

अर्थात भगवान की भक्ति विश्व प्राप्त होती है जल्द से जल्द की भक्ति में लीन होने लगता है उस मंत्र के प्रभाव की इतनी महत्ता है कि अगर कोई भी व्यक्ति इस को निष्ठा पूर्वक करता है इस मंत्र का कोई निषेध नहीं है जैसे अन्य मंत्र होते हैं तो उनका निषेध होता है कि वह किसी भी स्थान में मंत्र का जाप नहीं कर सकता है यह वैष्णव मंत्र है और भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का जाप किया जाता है

किसी भी व्यक्ति को कम से कम 11 बार इस मन्त्र का जाप करना चाहिए । उसके अंदर सर्वप्रथम वैष्णव प्रवृत्ति श्री राम शरण में जाने का सर्वोत्कृष्ट फल से प्राप्त होता है ओम नमो भगवते रुद्राय नमः यह विशेष मंत्र जल्द से जल्द आप जाप करें ।

ॐ नमः शिवाय मंत्र का विनियोग क्या है ?

शिवरात्रि की रात ओम नमः शिवाय जप विनियोग सहित महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है Om Namah Shivaya  मन से मन का संतोष करके ओम नमः शिवाय से जप करते रहे इस मन्त्र का बहुत ही महत्व हमारे जीवन में है ओम नमः शिवाय मंत्र से शांति जीवन में बनी होती है और यदि इस मंत्र का 100 बार जप करते हैं तो आपके जीवन में आने वाली बीमारियां खत्म हो जाती है|

 

 

जीवन आनंद प्रतीत होता है नमः शिवाय मंत्र बोलते हैं बेलगांव खुश हो जाते हैं और अपने आप में शक्ति महसूस करने लगते हैं नमः शिवाय एमपी चंद भजन नवा शिवाय कीर्तन ओम नमः शिवाय मंत्र का जप करने से इंसान मन में जो अपना उद्देश्य बनाए रखता है वह भी पूरा कर लेता है और संकल्प अपने जीवन में लिया रहता है ओम नमः शिवाय योग करें जीवन में संकल्प भी पूरा हो जाएगा और जीवन धन-धान्य से परिपूर्ण भी होगा

Shiv ki Pooja kaise kare