lal kitab remedies

Lal kitab से 3 दिन में भाग्य तो बदलेगा और धन की भी होगी वर्षा! 1

What is lal kitab?

सत्य और सत्य रूप से Lal kitab द्वारा अवश्य ही जाग जायेगी आपकी सोयी किस्मत।
हमारे हिन्दू धर्म के विद्वान ज्योतिषाचार्यो ने अनेक ऐसी विधाओं की खोज की है।
इन्ही विधाओं में से एक प्रसिद्ध एवं अत्यन्त प्रभावकारी ज्ञान है, लाल किताब ज्ञान।
जिनके माध्यम से हम भविष्य को भाप पाने की कोशिश कर सकते है।
Lal kitab के विषय में अक्सर हम और आप सभी सुनते आये है। परन्तु क्या आप जानते है? आखिर वास्तव में लाल किताब है क्या?


What is lal kitab prediction?

ये बात बहुत ही कम लोग जानते है।ज्योतिष तथा हस्त रेखा शास्त्र पर आधरित एक किताब जो लाल किताब के नाम से जानी जाती है।
जो 19 विं शताब्दी में लिखी गई थी। लाल किताब विद्या उत्तरांचल तथा हिमाचल क्षेत्र के सुदूर इलाके तक फैली हुई थी।
कुछ समय बाद में इसका प्रचलन पंजाब से लेकर अफगानिस्तान तक के इलाके तक फैलता गया।

Suraksha yantra lal kitab

लाल किताब के जानकारों ने इसे बहुत समय से संभल कर रखा हुआ था।
ऐसा बताया जाता है की इस विद्या को बाद में अँग्रेजों के साशन काल में जालंधर निवासी पंडित रूपचंद जोशी द्वारा एकत्रित किया गया।
और कुछ समय बाद Lal kitab को सन् 1939 में ‘फरमान’  नाम से प्रकाशित की। तब इस किताब में कुल 382 पृष्ठ थे।


What is lal kitab in hindi?

कुछ समय पश्चात इस पुस्तक का नया संस्करण 1940 में 156 पृष्ठों में प्रकाशित हुआ।
इस पुस्तक में कुछ ही खास सूत्रों को शामिल किया गया था।
तत्पश्चात 1949 में अगले-पिछले सारे सूत्रों को मिलाते हुए 428 पृष्ठों में लाल किताब प्रकाशित की हुई।
इसी प्रकार 1942 में 383 पृष्ठ तथा 1952 में 1979 पृष्ठों वाला संस्करण प्रकाशित हुआ।

Best lal kitab book

और तब जाकर 1952 के संस्करण को ही अंतिम संस्कार के रूप में माना गया। विश्व भर में लाल किताब के नाम से विख्यात हुई।
लाल किताब विद्या का संबंध सामुद्रिक, नाड़ी शास्त्र और हस्तरेखा जैसी विद्याओं से ही है।
लाल किताब की विद्या का संबंध वास्तुशास्त्र से भी माना गया है। यह पूर्णतः सामुद्रिक शास्त्र पर आधारित है।

What is lal kitab astrology

लाल किताब में जीवन को सही तरीके से जीने के लिए भी बहुत से तरीके बताए गए हैं।
जिन्हें अपनाकर हर एक व्यक्ति एक सुखद जीवन यापन करता है।
अपने पर होने वाले किसी भी प्रकार के दुःख और दर्द का निवारण पा सकता है। इसके अलावा Lal kitab लाल किताब में धन संबंधी और
जीवन की अन्य परेशानियों से मुक्ति दिलवाने के लिए बहुत से उपाय बताए गए हैं।
जो सप्ताह के हर दिन पर अलग-अलग प्रकार से जुड़े हुए होते हैं तथा प्रयोग में लाये जाते हैं।

lal kitab
lal kitab

lal kitab ke upay

लाल किताब की सबसे बड़ी विशेषता यह है की। यह ग्रहों के दुष्प्रभावों से बचने के लिए भक्त को लाल किताब एक बहुत ही लाभ्कारी सहारा प्रदान करता है।
आज हम आपको लाल किताब लाल किताब से कैसे धन प्राप्त किया जाये।
कैसे आप अपनी सोई हुई किस्मत में अपने मेहनत द्वारा धन और हर समस्या से मुक्ति का मार्ग निकाल सकते हैं।

What is lal kitab kundli

हम आपको आज इसका अचूक मन्त्र बताने जा रहे है।
जिसके नियमित जाप द्वारा आप अपने पर आ रही विपदाओं और सोई किस्मत को जगा सकते हैं।
जिसका जाप आपको रोजाना एक हफ्ते तक नियम के पालन के साथ करना है।

LAL KITAB MANTRA

ऊं महालक्ष्म्यै विद्महे विष्णुपत्न्यै धीमही तन्नो लक्ष्मी देवी प्रचोदयात’

आपको निम्न मन्त्र का जाप प्रातः 108 बार एक हफ्ते तक करना है।

lal kitab upay in hindi

नियम तथा विधि
लाल किताब में दिए हुए टोटके को पालन करने के लिए कुछ नयम बताये गए हैं। जिनका अक्षरसः पालन बहुत ही जरुरी है।
सोमवार :-
सोमवार का दिन भगवान चंद्र को समर्पित होता है। Lal kitab के अनुसार अगर कोई चंद्रमा को प्रसन्न करना चाहता है.
तो उसे इस दिन खीर खानी चाहिए।
अगर किसी की कुंडली में चन्द्र का प्रभाव बहुत कम हो तो उसे इस दिन सफेद वस्त्र धारण करने चाहिए।

How to learn lal kitab

मंगलवार :-
हनुमान को समर्पित इस दिन पर गरीबों को मीठी रोटी और मसूर की दाल का दान करना बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है।

Lal kitab rashifal 2019

बुधवार:-
यह दिन बुद्धि के देवी को समर्पित होता है, इस दिन भूल से भी मूंग के दाल का सेवन नहीं करना चाहिए।
जिन भी व्यक्तियों को व्यापर में बाधा उत्पन्न हो रही है। इस दिन उन्हें किसी ब्राह्मण को गाय दान करनी चाहिए।

How to make jupiter strong-lal kitab

गुरूवार:-
इस दिन ब्राह्मणो को पिले रंग के वस्त्रों का दान करना चाहिए। तथा भोजन में इस दिन कढ़ी चावल का ही सेवन करें।
क्योकि इस दिन कढ़ी चावल का सेवन फायदेमंद होता है।

How to make venus strong lal kitab

शुक्रवार:-
यह दिन असुरो के गुरु शुक्र का दिन है, इस दिन प्रातः दही का सेवन अवश्य करे ।

Suraksha kawach lal kitab

शनिवार:-
ज्योतिषाचार्य के अनुसार यह दिन न्याय के देवता शनि देव को समर्पित है, इस दिन घर में कोई भी नई खरीदी वस्तु ना लाये.
तथा प्रातः शनि देव पर तेल अवश्य चढ़ाए।

What is lal kitab remedies?

रविवार:-
यह दिन भगवान सूर्य देव का कहा जाता है, इस दिन भगवान सूर्य देव को जल अर्पित करे।
तथा जो व्यक्ति अपना सौभाग्य चमकाना चाहते है वह इस दिन गुड को नदी में प्रवाहित करे।


12 rashiyon ke liye Lal kitab ke upay

मेष राशिlal kitab के अनुसारइस राशि के व्यक्ति कोई भी वस्तु किसी से भी मुफ्त में न लें। और हमेशा आप लाल रंग का रूमाल प्रयोग करें। आप साधु-संतों मां तथा गुरु की सेवा करें।
आपको सदैव ही सदाचार का सदा पालन करना होगा करें। और वैदिक नियमों का पालन करना होग।
यदि आप किसी भी विधवा स्त्री की सहायता करते हैं तो आपको बहुत ही ज्यादा लाभ भी होग। रोजाना मीठी रोटी गाय को खिलाएं।

What is the way to get money lal kitab?

वृषभ राशिइन राशि के व्यक्ति को सफेद चीजों का प्रयोग अधिक करना होग। और शकर का सेवन बहुत ही कम करना होगा।
सदैव ही चांदी के बर्तन में ही पानी पिएं। वृषभ राशि के लोगो को अनैतिक संबंधों से बचाना होग। और अपनी पत्नी का आदर करें।
मिथुन राशि– इस राशि के व्यक्ति को तामसिक भोजन का परित्याग करना होगा।
और आप यदि घर में मछलियों को पाल के रखते हैं तो उसने मुक्त करें।
आप दमे की दवाइयों का दान करें। अपनी माता का पूजन करें और १२ वर्ष से छोटी कन्याओं का पूजन करें।
किसी भी प्रकार की चमड़ी की बेल्ट का प्रयोग न करें। हमेशा फिटकरी से दांत को साफ करें। रोज सूर्य नमस्कार करें।

How to learn lal kitab jyotish in hindi

कर्क राशि– Lal Kitab के अनुसार आप अपनी माता से चांदी और चावल लेकर अपने पास रखें तथा माँ दुर्गा का पाठ करें।
आपको कन्या के दान में सामान भेंट रूप में देनी चाहिए।
आप सदैव ही धार्मिक कार्यों को अपने कार्य रूप लाएँ। और सदैव ही तीर्थस्थान की यात्रा करने से किसी को भी न रोकें।
आप डॉक्टर हैं तो रोगियों को तो मुफ्त में ही दवा दें।
सदैव ही धर्म स्थानों पर नंगे पैर ही जाएं। अपनी माता की बातों का पालन करें।
सिंह राशिLal Kitab के अनुसार स राशियों के लोगों को अखरोट व नारियल धर्म स्थान में देना चहिये। अंधे व्यक्ति को भोजन कराएं।

lal kitab kundli hindi
lal kitab kundli hindi

Lal kitab ke totke

सदाही सत्य भाष्य करण। किसी का भी अहित न करें और न ही सोचण। आप अपने साले दामाद व भानजे की सेवा तो जरूर ही करें।
आप सदैव ही मीठा खाकर कोई शुभ कार्य का प्रारंभ करें। सदैव ही वैदिक एवं सदाचार के नियमों का पालन अवश्य करें।
कन्या राशिLal Kitab के अनुसार इस राशि के व्यक्ति के लोगों को अपशब्द न तो बोलना चाहिए और न ही क्रोध करना चाहिए।
माँ दुर्गा सप्तशती का पाठ करके छोटी कन्याओं का आशीर्वाद लेना चहिये।
आप को शनि देव से संबंधित उपचार को करना चाहिए। आप काली नेकर का धारण करें और चांदी के चले को धारण करें।
याद रहे की आप भूरे रंग का कुत्ता न पालें।

Rahu upay in lal kitab

तुला राशिLal Kitab के अनुसार आप को गौमूत्र का पान करना चाहिए। पत्नी को हमेशा टीका लगा का रखना चाहिए।
तथा परम पिता परमेश्वर पर पूर्ण रूप से आस्था रखें।
सदैव ही गौ ग्रास दें। और आप माता-पिता की आज्ञा से ही विवाह करें। आपके परिवार की कोई भी स्त्री नंगे पैर न ही चले तो बहुत ही अच्छा ।
तवा चिमटा चकला और बेलन को आप धर्म स्थान में दान दें।

Original lal kitab in hindi pdf

वृश्चिक राशि–  Lal Kitab के अनुसार इस राशियों के मनुष्य को तंदूर की मीठी रोटी बनाकर गरीबों को खिलानी चाहिए।
कभी भी पीपल और किकर के वृक्ष को न काटें।
आप कभी भी किसी से मुफ्त का माल न लें। अपने बड़े भाई की अवहेलना न करें।
रोजाना आप प्रातःकाल शहद का सेवन कर हनुमान जी को सिंदूर और चोला चढ़ाएं। सदैव ही बड़ों की सेवा करें।

Lal kitab kundli hindi 2018

धनु राशि lal kitab के अनुसार कभी भी भिखारियों को अपने सामने से निराश न लौटने दें। सदा ही तीर्थ यात्रा करें।
और आप सदैव ही तीर्थयात्रा के लिए दूसरों की मदद करें।
रोजाना गुरु साधु और पीपल देव की पूजा करें। आप पीले रंग के फूल के पौधे का रोपण करें।

Lal kitab kundli milan

मकर राशि– इस राशि के व्यक्ति को सदैव ही बंदरों की सेवा करनी चाहिए। कभी भी असत्य भाषण न करें।
अपने घर के किसी भी हिस्से में अंधेरा न ही रखें।
सदा ही पूर्व दिशा वाले मकान में ही निवास करें।
आप अखरोट को किसी भी धर्म स्थान में चढ़ाएं और थोड़ा बहुत घर पर भी लाकर रखें।
कभी भी आप पराई स्त्री पर नजर न डालें। और भैंस कौओं और मजदूरों को सदैव ही भोजन कराएं।

Suraksha kawach by lal kitab

कुंभ राशियाद रखें की 48 वर्ष से पहले अपना मकान तो न ही बनवाएं और आप दक्षिण दिशा वाले मकान का परित्याग करें।
सदैव ही एक चांदी का टुकड़ा अपने पास रखें। और शनिवार का व्रत रखें।
भैरव मंदिर में रोजाना तेल और शराब का दान करें परन्तु खुद न पिएं।
आपको सोना भी धारण करना होगा।

Uv suraksha kawach by lal kitab

मीन राशि– इस राशि के व्यक्ति को lal kitab के अनुसार किसी से भी मदद स्वीकार नहीं करनी चाहिए।
और अपने भाग्य पर विश्वास रखना चाहिए।
किसी के सामने स्नान नहीं करना चाहिए। और धर्म स्थान पर जाकर पूजन करें।
आपको कुल पुरोहित का आशीर्वाद प्राप्त कर सिर पर शिखा रखनी चाहिए।
सदैव ही संतों की सेवा के साथ धर्म स्थान की सफाई अवश्य ही करनी चाहिए।
और आपको स्त्री की सलाह से व्यापार करना चाहिए।

How to get lal kitab amrit?

Lal Kitab पुस्तक को प्राप्त करनेके लिख्या आप इस दिए गए अमेज़न के लिंक पर क्लिक करे। 

One Comment

Trackbacks and Pingbacks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *