KAMASUTRA

Kamasutra-अगर नहीं पता, तो एक बार पढ़ें जरूर जीवन बदल जायेगा! Leave a comment

What is Kamasutra?

वात्सायन ऋषि जी के द्वारा लिखा Kamasutra प्राचीन भारतीय ग्रंथों में से एक है।


कामसूत्र के अनुसार काम देव और रति द्वारा केवल इस मैथुनी सृष्टि में स्त्री पुरुष के आपसी संयोग से संसार में प्राण धारियों की रचना की जाती है।

Who wrote kamasutra

काम सूत्र काम से सम्बंधित योग क्रियाओं का सम्मिश्रण हैं।


जहाँ उन क्रियाओं के साथ-साथ स्वतः ही योग की क्रिया का भी प्रयोग होता है।

जो योग मनुष्य में उपस्थित सात चक्रों को भी जागृत कर देता है।

और मनुष्य को आध्यात्म की सर्वोच्च स्थति में पहुँचा देता है।

जो मनुष्य की सबसे मूलभूत स्थिति “आत्मज्ञान” को प्राप्त करने में सहायक सिद्ध होता है।

Kamasutra is not sex text only

आज के कलियुग में अगर हम किसी व्यक्ति से Kamasutra की बात करते हैं तो वह उस काम क्रिया को सही अर्थ में ना लेकर वासना में ग्रसित हो जाता है।

तथा अपनी मूल स्थति से भ्रमित हो जाता है। कामसूत्र में दिए गए उपायों को मनुष्य प्रयोग तो करें.

परन्तु ध्यान रखे, किसी पर्याप्त जानकारी और अभ्यास के बिना, कामसूत्र का प्रभाव सही न होकर उल्टा ही होगा।

क्या है कामसूत्र की शिक्षाएं?

काम का दूसरा और आध्यात्मिक अर्थ अगर हम समझना चाहें तो होता है प्रेम को प्रकट करने का एक तरीका।

प्रेम काम क्रीड़ा द्वारा प्रकट कर मनुष्य अपनी काम इच्छा के माध्यम से उस अव्यक्त तत्व तक पहुँच जाता है।

परन्तु आज यदि हम किसी से इस प्रेम की बात करेंगे तो वह इसे अन्यथा ही लेगा और अपनी स्थति से भ्रमित भी हो जाएगा।

Kamsutra is an art of living life

‘कामशास्त्र’ शब्द का मतलब अगर हम समझना चाहें तो तो इसका सीधा अर्थ होता है काम के सिद्धान्त को बताने वाला एक ग्रंथ।

और इसके द्वारा हर एक मनुष्य अपने में मौजूद शारीरिक और भावनात्मक संतुष्टि को पूर्ण रूप से अंतिम विराम दे सकता है।

Importance of Kamasutra

महर्षि वात्सायन ऋषि जी के द्वारा लिखा Kamasutra का उद्देश्य मात्र यौन संबंधों को उजागर करना नहीं था।

बल्कि उन्होंने काम-आनंद के इन गंभीर विषय पर सैद्धांतिक व वैज्ञानिक दृष्टिकोण से अपने विचार प्रकट करते हुए इस ग्रंथ की रचना की।

Why is Kamasutra not a subject?

यहाँ पर कामसूत्र के बारे में बताने का एक ही उद्देश्य है।

वह यह है की Kamasutra वासना की पूर्ती के लिए नहीं बल्कि मैथुनी सृष्टि की रचना में मनुष्य का क्या और कैसा योगदान हो।

जिससे वह सृष्टि के चक्र को सुचारू रूप से चलने में अपना योगदान दे सके।

What is kamasutra education?

कामसूत्र भावनात्मक इच्छाओं को पूर्ण कर मन को आध्यात्मिक राज्य में प्रवेश दिलाता है।

हर एक व्यक्ति Kamasutra से भली भाँती परिचित है। परन्तु इसके पीछे छुपे असली तथ्य और गहन अर्थ से अनभिज्ञ रह गए हैं।

What do indians think of kamasutra?

मनुष्य जीवन का अंतिम सत्य, तो ईश्वर के साथ साक्षात्कार करना है । या सरल शब्दों में कहा जाए तो अपने आप को पहचानना है । आत्मज्ञान ही जीवन का अंतिम उद्देश्य या ध्येय है।

और जहाँ Kamasutra भी एक क्रिया है जो मनुष्य को आत्म ज्ञान की स्थिति तक पहुँचने में पूर्ण रूप से लाभकारी और सहायक रूप में सिद्ध होती है।

myths related to kamasutra in hindi

हम सभी जो भी Kamasutra के बारे में सुनते हैं। या पढते हैं तो यही सोच के पढते हैं की यह एक अश्लील और काम क्रीड़ा में सहायक पुस्तक मानते हैं।

परन्तु यह पूर्ण रूप से असत्य है। यहाँ पर इस बात को स्पष्ट करना बहुत ही जरूरी है की.

काम क्रीड़ा को हमारे भारतीय संस्कृति में कभी भी घृणित दृष्टि से देखा ही नहीं गया।

यहाँ तो यह भी स्पष्ट रूप से विद्वानों द्वारा बोला गया है की Kamasutra चतुर्वर्ग जो अर्थ, काम, मोक्ष और धर्म में बहुत ही सर्वश्रेष्ठ स्थान रखता है

Kamasutra tells sex position

हमारे शास्त्रों में हर एक मनुष्य के जीवन के चार पुरुषार्थ बताये गए हैं। धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष।

बहुत ही आसान बातों में अगर बोला जाए तो हर एक मनुष्य को धर्म के अनुसार आचरण करना बहुत ही जरूरी होता है।

धर्म के अनुसार आचरण करना, उचित रूप से धन का उपार्जन करना और सदैव अपनी मर्यादा का ध्यान रखना।

इन सब को करते हुए अपने मन में आत्म ज्ञान की ज्वाला को जलाये रखना।

क्यो जरूरी है कामसूत्र

हम सब कामक्रीड़ा को बहुत ही हीन भावना से देखते हैं।

जबकि Kamasutra की रचना वासना से बचते हुए काम क्रीड़ा का नियमानुसार रूप से आनंद लेने के लिए की गई थी।

Download kamasutra pdf

काम का आनंद यदि आप Kamasutra के उचित ज्ञान द्वारा लेंगे तो अवश्य ही आपके जीवन में काम का आनंद तो आएगा ही, साथ ही साथ आप काम वासना से भी बच जाएंगे।

आप जानते होंगे की काम कोई गलत कर्म नहीं बल्कि एक स्थिति है.

जिससे प्रकृति और पुरुष इस सृष्टि को सुचारु रूप से चलने में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान देते हैं।

कामसूत्र से जुड़े मिथक

और अपनी आध्यात्मिक स्थिति पर पुर्ण रूप से अपनी स्थिति प्राप्त करते हैं।हम सभी जानते हैं की सांख्य दर्शन में यही बात है की-

कान द्वारा अच्छी बातें, त्वचा द्वारा शुद्ध स्पर्श, आँख द्वारा अनुकूल रूप और ईश्वर के विग्रह का दर्शन,

नाक द्वारा उचित पदार्थों की गंध और जीभ द्वारा केवल भगवान् का प्रसाद ही ग्रहण किया जाना चाहिए जिन्हे भी काम या क्रिया ही कहा जाता है।

Give us kamasutra book

हमारे पांचों ज्ञानेन्द्रियों के साथ मन और आत्मा का भी संयोग होना बहुत ही आवश्यक होता है।


ऐसा होने से मनुष्य जो भी कर्म करता है उससे गलत वासनाये उसमे प्रवेश नहीं करती।

बल्कि उस मनुष्य के कर्म के साथ साथ उसका आध्यात्मिक विकास और ऊपर उठ जाता है।

काम सूत्र की बुक को डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

क्या है कामसूत्र की शिक्षाएं

वात्सायन ऋषि के अनुसार हर मनुष्य को काम का सेवन अवश्य ही रूप से करना चाहिए।

ऐसा इसिलए क्योंकि हर एक मनुष्य के शरीर की रक्षा के लिए Kamasutra भी एक आहार के सामान ही है।

काम क्रिया इश्वर की सृष्टि में सहयोग करने का एक माध्यम है। सृष्टि की रचना में प्रकृति पुरुष का संयोग होना बहुत ही आवश्य होता है।

What are some useful advice for a great sex from the book Kamasutra?

प्रकृति और पुरुष या स्त्री- पुरुष के बिना आपसी संयोग से सृष्टि का निर्माण होना असंभव है।

वात्सायन ऋषि रचित ‘कामसूत्र’ में एक अच्छे स्त्री और पुरुष के लक्षण सोलह श्रृंगार तथा सौंदर्य के साथ-साथ कामशक्ति में कैसे वृद्धि हो.

इन्ही सब चीजों के बारे में बताया गया है।

What is all about kamasutra sex?

जैसा की बताया गया की सृष्टि की रचना में एक स्त्री और एक पुरुष अपना विशेष रूप से योगदान देते हैं।

उसी प्रकार Kamasutra  में किस अवसर पर संबंध बनाना अनुकूल रहता है और कब निषिद्ध होता है। इन्ही सब बातों के बारे में चर्चा की गई है।

जिससे एक अच्छी सृष्टि का निर्माण हो सके।

How many of you know about Kamasutra?

आज किसी भी व्यक्ति से अगर पुछा जाए तो वह कामसूत्र को केवल सेक्स पोजीशन्स के रूप में बताने वाला ग्रन्थ ऐसा ही मानते हैं।

जबकि असल में बात ऐसी नहीं हैं। Kamasutra का केवल और केवल मात्र 20% हिस्सा ही, इस हिस्से को उजागर करता है।

कामसूत्र यौन आसनों के बारे में बताता है

यह ग्रन्थ हर किसी महिला व पुरुष के संबंधों व कर्तव्यों पर अधिक गहराई से बताता है। कामसूत्र में मात्र एक भाग में 64 आसनों के बारे में ही बताया गया है।

इन यौन आसनों के अलावा काम-क्रिया किस तरह से अच्छी या बुरी होती है.

इनसे ही सम्बंधित बातों के बारे में बेहद सरल तरीके से बताता है

सेक्स ग्रंथ मानना

महर्षि वात्स्यायन ने इसमें काम से सम्बंधित क्रियाओं के बारे में लिखा है।

परन्तु आज मनुष्य काम को मात्र यौन आनंद या शारीरिक सुख को पूर्ण रूप देने वाला ग्रन्थ समझते हैं।

Why is it that Indians introduced Kamasutra but are too shy to talk about sex?

जबकि इसमें काम के अंतर्गत उपस्थित भावनाओं और इंद्रियों के द्वारा महसूस होने वाले आनंद को बहुत ही अच्छे रूप से शामिल किया गया है।

किसी नरम कपड़े का त्वचा पर होने वाले स्पर्श,

संगीत की मुधर तान सुगंध व किसी चीज खाने पर मिलने वाले आनंद आदि को ‘काम’का ही रूप कहा जा सकता है।

Kamasutra position in hindi

कामसूत्र के पुस्तक के केवल मात्र एक भाग में यौन संबंधों को बनाने से संबंधित बातें लिखी गई हैं।

Kamasutra कई सौ वर्ष पूर्व लिखे जाने के बाद भी आज वर्तमान समय में उपयोगी है।

Is Kamasutra against the Indian culture?

भले ही आज मानव जीवन के कई क्षेत्रों में उन्नति हो चुकी है।

परंतु किसी भी व्यक्ति के प्रति भावनाओं का जागृत होना अथवा महिला व पुरुष के संबंधों की आधारशीला तो आज भी वैसी ही है, जैसे पहले थी।

kamasutra book pdf

कामसूत्र का ग्रंथ महर्षि वात्स्यायन ने सात अध्यायों में लिखा है।

इसमें किसी भी व्यक्ति के दाम्पत्य जीवन को बहुत ही सरल बनाने व उसके कर्तव्यों के विषय में बहुत ही विस्तार से बताया गया है।

कैसे महिला व पुरुष अपने रिश्ते को मधुर और सुखी बना सकते हैं इस तरह की बातों का समायोजन इस पुस्तक में बताया गया है।

Do Indians respect The Kamasutra as much as they revere other ancient scriptures?

किस तरह का आचरण सेक्स के दौरान व्यक्ति को करना चाहिए।

और किन-किन आसनों की मदद लेनी चाहिए। ऐसी संपूर्ण जानकारी कामसूत्र हमको प्रदान करता है।

What is indian kamasutra

कामसूत्र के प्रथम भाग में पांच अध्याय हैं। जहाँ प्रेम व निकटता के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है।

Kamasutra के प्रथम भाग में दस अध्यायों को शामिल किया गया है।

जहाँ महिला व पुरुष की यौन इच्छाओं गले लगने के तरीकों, नाखूनों का पूर्ण रूप से इस्तेमाल, दांतों से साथी के शरीर पर निशान द्वारा प्रेम प्रकट करना।

kamasutra a tale of love

सम्भोग क्रिया में महिलाओं के साथ किया जाने वाला विनम्र व्यवहार।

Kamasutra में निम्न बातों के बारे में जानकरी दी गई है।

जिसमे पत्नी के बारे में,पत्नी का आचरण, अन्य की पत्नियों के बारे में, शादी के लिए सही उम्र, सम्मोहित करने के बारे में बताया गया है।

Kamasutra positions

कामसूत्र में निम्नलिखित आसनो के बारे में बताया गया है।

उत्फुल्लक (utphallaka)

इंद्राणिक(Indranika)

वेष्टितक(veshititaka)

विजृम्भितक(vijrimbhitaka)

बाड़वक(vadavaka)

वेणुदारितक(venudaritaka)

शूलाचितक(shulachitaka)

पद्मासन(padmasana)

परावृत्तक(paravrittaka)

कामसूत्र के आसन | kamasutra ke aasan in hindi

स्थिररत(sthitarata)

अवलम्बितक(avalambitaka)

धेनुक(dhenuka)

कृषक (Peasant)

भुग्नक(bhagnaka)

जृम्भितक(jrimbhitaka)

पार्शव संपुट (parshva samputa)

उत्तान संपुट (uttana samputa)

उत्पीड़ितक(utpiditaka)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *