jagannath puri temple facts in hindi

jagannath puri temple facts in hindi Leave a comment


हिन्दू धर्म के अनुसार चार धाम को एक युग का प्रतीत माना गया है इस तरह कलयुग का पवित्र धाम जगन्नाथ मन्दिर, पुरी को माना गया है इस बार शुरू होगी भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा हैक्या आप जानते है,इतने सालो से पुराना ये मंदिर अपने अंदर कई सारे राज़ समेटे हुए है इस मंदिर से इतने सारे राज़ जुड़ रहे है, जिन्हे आज भी विज्ञानं भी मनस्कार करता है आज जाने भगवान जगन्नाथ के राज़(jagannath puri temple facts in hindi)


puri jagannath story

सैकङो साल पहले एक ऐसे राज़ ने जन्म लिया जो आज भी लोगो को हैरान करता है।एक विशालकाय गुम्बद वैज्ञानिको के लिए पहेली बन गया है ऐसा गुम्बद जिसमे करोङो लोगो की आस्था जुडी हुए है। ये अपने दिल मे इतने सारे रहस्य समेटे हुए है जो आज तक बेपर्दा नहीं हुए है।सैकङो साल पहले न जाने कौन सी टेक्नोलॉजी का इस्तमाल हुआ

history of jagannath puri

 सालो  पहले न जाने इस कंक्रीट के बने विशालकाय गुम्बद का निर्माण हुआ।सैकङो साल पहले न जाने किस आस्था ने जन्म लिया की विश्वास का इतना बड़ा मंदिर खड़ा हो गया अस्मजस रहस्यों को समेटो हुए है, भगवान जगन्नाथ गौरव पूर्ण अतीत के साथ गहरे राज का केंद्र है ,भगवान जगन्नाथ इस भव्य मंदिर का गुम्बद उस पर लगा ध्वज एक कहानी बताते है ऐसे कहानी जिस पर विश्वास करना मुश्किल है यहाँ से उठती आवाजे और समुन्दर के गर्भ मे अविश्वनीय रहस्य छिपा हुआ है भगवान जगन्नाथ की ये यात्रा धरती पर उमड़ने वाला सबसे बड़ा जन सैलाब माना जाता है आखिर इसका राज क्या है आज जाने भगवान जगन्नाथ के 7 राज़ ये यात्रा अपने अंदर गज़ब का रोमांच समेटे हुए है


bhagwan jagannath story in hindi

बताते है जितना भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा मे है उस से ज्यादा रहस्य मंदिर मे छुपा हैआइये जानते है मंदिर के रहस्य जो मंदिर के रथ यात्रा से जुड़े है मंदिर पर लगा ध्वज बहुत रहस्यमयी है ये हमेशा हवा के वितरीत दिशा मे लहराता रहता हैअगर हवा पूरब से पश्चिम मे बह रही हो ये ध्वज पश्चिम से पूरब की ओर लहराएगाऐसा किस वजह से होता है ये तो वैज्ञानिक भी नहीं जानते ये बात बहुत ही अविश्नीय है ये भी आश्चर्य है की हर रोज़ शाम को ध्वज को मंदिर के ऊपर उल्टा चढ़ाकर बदला जाता है  ऐसा लगे ये सीधी दिशा मे लहरा रहा है

facts about puri jagannath temple

ध्वज भी इतना भव्य है जब ही ये लहराता है तो ऐसा लगता है, लोग इसको देख़ते रह जाते है ध्वज पर चंद्र भी बना हुआ है ये दुनिया का सबसे भव्य व् ऊँचा मंदिर है ये मंदिर 4 लाख वर्ग फुट मे फैला हैलम्बाई लगभग 214 फ़ीट है मंदिर के पास खड़े रहकर इसका गुम्बद देख पाया असंभव हैइसकी छाया रहस्यी ढंग से छिपी हुए है।एक एक गहरा राज़ क्योकि इसकी छाया दिन के किसी भी समय अदृस्य ही रहती है।  इसकी छाया दिखाई नहीं देती
हमारे पूर्वज कितने बड़े इंजीनियर रहे होंगे ये एक मंदिर एक उदाहरण से समझा जा सकता हैपुरी का ये भव्य मंदिर का रूप 7वी सदी मे बनाया गया था।
jagannath puri temple facts in hindi
राज़ पहला


Chamatkarik sudarshan chakra

जब भी आप जगन्नाथ पूरी जाये इस मंदिर पर लगे इस सुद्रशन चक्र को देखियेजब भी आप जगन्नाथ पूरी जाये इस मंदिर पर लगे इस सुद्रशन चक्र को देखियेआप  जगन्नाथ पुरी मे कही भी खड़े हो, आपको यह सुन सुद्रशन चक्र पुरी मे हर जगह से देख सकते है किसी भी दिशा से देखने से लगता है ये सुदर्शन चक्र आपके सामने ही है ऐसा लगेगा ये बस आपके सामने है ऐसे वीर चक्र भी कहा जाता है इसको वीर चक्र इसलिए कहा जाता है क्योकि ये अस्त्र धातु से बना है ये चक्र बेहद पवित्र माना जाता है
तीसरा राज़

Hawa ki disha

आम दिनों के समय हवा समुद्र से जमीन की तरफ आती है शाम के दौरान इसके विपरीत लेकिन पुरी मे इसका उल्टा होता हैज्यादातर समुद्री तट पर समुद्री हवा समुद्र से जमीन की तरफ आती है यहाँ हवा जमीन से समुद्र की तरफ जाती है
चौथा राज़

Gummad ke upar nahi udte pakshi

आज तक गुम्बद के ऊपर कोई भी पक्षी उडता हुआ नहीं देखा गया इसके ऊपर से विमान भी नहीं उदय जा सकता. मंदिर के शिखर के पास पक्षी उड़ते नज़र नहीं आतेआपने देखा होगा भारत के मंदिरो के गुम्बद के ऊपर पक्षी बैठ जाते हैलेकिन इस मंदिर के आसपास ऐसा कुछ नहीं है
पांचवा राज़

Duniya ka sabse bada rasoi ghar

800 रसोई 300 सहयोगियों के साथ बनाते है भगवन जगन नाथ जी का प्रसादयहाँ हर रोज़ लगभग 20 लाख लोग भोजन कर सकते हैकहा जाता है मंदिर मे भले ही कुछ हज़ार लोगो के लिए भोजन क्यों न बनाया गया हो लेकिन इस से लाखो लोगो का पेट भर सकता है मंदिर के अंदर खाने पकने की मात्रा पूरी साल के लिए रहती है.प्रसाद की मात्रा कभी भी नहीं जाती

छठवा राज़

Samunder ki awwaz

मंदिर के द्वार मे पहला कदम रखते ही समुन्दर की लहरों से उठने वाली किसी भी आवाज़े का आना बंद हो जाता है लेकिन जैसे ही आप बहार कदम रखेंगे आपको मंदिर के बहार की आवाज़ साफ़ सुनाई देगी शाम के वक़्त इसको अनुभव करा जा सकता है. इसी तरह मंदिर के बहार स्वर्ग द्वार है उहा पर मोख प्राप्ति के लिए शव जलाये जाते है कभी आपको लाशो के चलने की गंध महसूस होगी

सातवां राज़

Rup badlati murti

यहाँ श्री कृष्णा को भगवान जगन्नाथ कहा जाता है. उनके साथ भाई बलराम बहन सुभद्रा विराजमान है. तीनो की ये मूर्तिया कास्थ की बनी हुए है .यहाँ हर बार बारह साल मे नए तरह से तैयार होती है मुर्तिया नयी जरूर बनायीं जाती है लेकिन आकर और रूप वही रहता है. जिसको घट्ट परिवर्तन कहा जाता है

आठवाँ राज़

Duniya ki sabse badi rathyatra

भगवान जगन्नाथ की ये रथ यात्रा 5 किलोमीटर मे होती है इसमें लाखो लोग शरीक होते है उत्सव का मौहोल होता हर कोई भक्ति भाव-विभोर मे होता है चारो और देखकर ऐसा प्रतीत होता है जैसा कोई बड़ा त्यौहार हो वैसे इसको त्यौहार की तरह मनाया जाता है यह यात्रा बहुत ही पवित्र यात्रा मानी गयी है इस रथ यात्रा मे इतनी भीड़ होती है, पैर रखने की भी जगह नहीं होती एक बड़े से लेकर बच्चे तक इसमें शरीक होते हैऐसी वजह से इसको दुनिया की सबसे बड़ी रथ यात्रा मानी गयी हैऐसा कहा जाता है स्वम भगवान श्री कृष्णा इस दिन अपने भक्तो को दर्शन देने आते है यहाँ हर कोई भगवान की भक्ति लीला मे डूबा होता है

नौवा राज़

Jab bhagvan hanuman bane rakshak

ऐसा माना जाता है ३ बार समुद्र ने जगन्नाथ जी के मंदिर को तोड़ दिया था कहते है भगवान जगन नाथ ने समुद्र को नियत्रित करने के लिए भगवान हनुमान को तैनात किया था। हनुमान जी भी प्रभु के दर्शन के लिए नगर मई प्रवेश कर जाते थे ऐसे मे समुद्र भी उनके पीछे पीछे नगर मे दाखिल हो जाता था तब भगवान जगन्नाथ ने स्वम हनुमान जी को स्वाम पीढ़ी मे तट पर इस्थापित किया थायहाँ आज भी बजरंग बलि का प्राचीन मंदिर है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *