Durga Ashtami

Durga Ashtami- | MAA DURGA KON HAIN Leave a comment

Durga Ashtami

चैत्र की नवरात्री में दुर्गा अष्टमी का हमारे हिन्दू धर्म में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है। यह Durga Ashtami हमारे कुल देवी के रूप में पूजी जाती हैं। नवरात्रियों में माँ के ९ रूपों का पूजन किया जाता है। इस दिन माँ काली महाकाली भद्रकाली बीजासन माता और माँ दक्षिण काली का पूजन होता है।


Ashtami pooja kab aur kaise karen

दुर्गा अष्टमी को महा अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। देवीभागवत पुराण में दुर्गा अष्टमी का उल्लेख किया गया है। इसके अनुसार, नवरात्रि के अंत में अष्टमी या नवमी को कन्या पूजन जरूर करना चाहिए। मान्यता है कि नवरात्र की अष्टमी में कन्या पूजन करने से व्रत का पुण्य फल प्राप्त होता है।

Durga Ashtami


How to do Maa Ashtami pooja?

कहते हैं कि ऐसे परिवार में सुख-शांति आती है नवरात्र में जो लोग नौ दिन तक व्रत रखते हैं, उनके लिए यह जरूरी माना गया है। मान्यता है कि नवरात्र की Durga Ashtami में कन्या पूजन करने से व्रत का पुण्य फल प्राप्त होता है।

कहते हैं कि ऐसे परिवार में सुख-शांति आती है। ऐसा माना जाता है कि इससे घर के बच्चों की सेहत अच्छी रहती है और वे माता-पिता की आज्ञाकारी संतान होते हैं।

Who is durga Devi?

माँ आद्याशक्ती माँ दुर्गा सर्व दुःख नाशिनी बहुत ही खास देवी है, जो नौ अलग-अलग रूपों में प्रकट होने में सक्षम है, जिनमें से प्रत्येक अद्वितीय शक्तियों और लक्षणों के साथ संपन्न है। साथ में, इन नौ अभिव्यक्तियों को नव दुर्गा कहा जाता है

Durga Ashtami

MAA DURGA KON HAIN?

नवरात्रि की प्रत्येक रात मां देवी ‘अभिव्यक्तियों में से एक का सम्मान करती है। हिंदुओं का मानना है कि पर्याप्त धार्मिक उत्साह के साथ Durga Ashtami में माँ की पूजा दिव्य आत्मशांति और उन्हें नई खुशी के साथ भर देती है।

Why there are ten arms of Durga

दस हथियारों का संकेत है,कि देवी हमेशा अपने भक्तों को धरती और आकाश के साथ सभी आठ कोनों से बचाने के लिए होती है। देवी के प्रत्येक हाथ में एक विशेष हथियार होता है जो एक बहुत ही विशिष्ट कारण के लिए होता है।

कमल:

चूंकि कमजोर पानी में कमल खिलता है, यह उस व्यक्ति के सुंदर संदेश को दर्शाता है जिस तरह से किसी व्यक्ति को अपना जीवन जीना चाहिए। देवी की करुणा उनके भक्तों को मुक्ति पाने के लिए अपनी गहरी परेशानियों से उभरने में सक्षम करेगी

शंख:

शंख, ध्वनि का प्रतीकात्मक प्रतीक है, जिसे वह केंद्र माना जाता है जहां से संपूर्ण ब्रह्मांड उभरा है। और जैसा कि देवी को सभी रचनाओं के निर्माता के रूप में माना जाता है, इसलिए वह अपने हाथों में शंख रखती है।


Maa ke dus haat ka kya sanket hai?

Durga Ashtami बहुत ही उपयुक्त और प्रमुख हिन्दू त्यौहार है, जहा लोग धूम धाम से माँ की पूजा करते हैं।

चक्र:

उंगली के चारों ओर घूमती हुई चक्र इस तथ्य से स्पष्ट है कि वह सृजन का केंद्र है और उसके चारों ओर पूरी ब्रह्मांड कक्षा है।

त्रिशूल

त्रिशूल के तीन भेदी सिरों ने तीन मुख्य गुणों को दर्शाया है जो मनुष्यों से बना है। उसके हाथों में से एक में त्रिशूल का प्रतीक है कि एक व्यक्ति को इन गुणों को नियंत्रित करके अपने जीवन का नेतृत्व करना चाहिए।

तलवार:

तलवार बुद्धि का प्रतिनिधित्व करती है और मनुष्यों को निराशा को रोकने के लिए अपने ज्ञान का उपयोग करने के लिए सिखाती है।

गदा:

यह व्यक्तियों को देवी की ओर विश्वास, प्रेम और भक्ति प्रदर्शित करने के लिए निर्देशित करता है।

धनुष और बाण:

धनुष और तीर ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करते हैं। धनुष संभावित ऊर्जा का प्रतीक है जबकि तीर गतिशील ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है।

साँप:

सांप उच्च स्थिति की ओर चेतना के आंदोलन का प्रतिनिधित्व करता है।

ज्योति:

यह ज्ञान की प्रतीकात्मक है जो सांसारिक सामग्रियों के लाभों के साथ-साथ आध्यात्मिकता प्राप्त करने के मार्ग को जानने के लिए जरूरी है।

Durga Ashtami

Is Aadya goddess Durga or Goddess Kali?

माँ काली ही दुर्गा माँ हैं और दुर्गा ही माँ काली हैं। माँ काली सहांर करती हैं।

माँ दुर्गा देवी का ही सातवां रूप माँ काली है। जिन्हे कालरात्रि भी बोल जाता है। माँ की 9 रूपों में पूजा की जाती है।जिसमे एक रूप माँ काली का भी है।

Kya maa durga hi kali ka roop hain?

इस श्लोक से स्पष्ट हो जाता है की माँ काली ही माँ दुर्गा का रूप है।

प्रथमं शैलपुत्री द्वितीयं ब्रहमचारिणी।
तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम।
पंचमं स्क्न्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च।
सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम।
नवमं सिद्धिदात्री नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः।

Is it good to die on Durga ashtami day

यह तो कोई नहीं बता सकता मृत्यु के बाद क्या होता है।परन्तु देखा जाए तो इस दिन अगर किसी व्यक्ति का शरीर Durga ashtami को छूट जाए तो हो सकता है,उसे मोक्ष प्राप्ति भी हो जाये परन्तु इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है।

Durga ashtami mein deh ka tyag hona shub hota hai?

क्योकि हर व्यक्ति कर्म करने के लिए बाध्य है। कर्म के अनुसार ही फल भी प्राप्त होता है। इसमें दुर्गा अष्टमी को मृत्यु होना या न होना इससे कोई मतलब नहीं।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *